नवम्बर-2017

संचयनआइटम     Posted: July 1, 2015

आइटम
””सारी उम्र बीत गई रे छोरी नु ही साड़ी पहनते हुए। इब इस उम्र में क्या सूट पहरूँगी। यह सुत्थन वाले सूट ब्याह के बाद कोणी पहरे जावे म्हारी बिरादरी में। ब्याह के बाद छोरी की चाहे जित्ती भी उम्र हॉवे उसे साड़ी ही पहननी हॉवे और सर पर पल्लू उतरने न पावे। इब तो तू चाहवे के मैं सलवार सूट पहर लू। ना मेरे से कोनि हॉवे येह। जा मैं कमरे से बाहर ही ना निकलूँगी जिब तेरी सहेलियाँ आवेगी।” कहते-कहते मिथलेश ने अपनी साड़ी को और कसकर लपेट लिया, और अपने मन-ही-मन कुढ़ती रही,””यह आजकल की बहुएँ, हमने इनको नहीं टोका कि यह न पहनो वह न पहनो और यह शहर आकर बेशरम-सी घूमती रहती हैं बिना पल्लू के। कही बाँह नंगी तो कही टाँग। अरे! तुमको कह दिया कि जो मर्जी करो तो अब
हम पर ही जबरदस्ती करोगी कि अम्मा सीधे पल्ले की साड़ी न पहनो। अम्मा सर पर पल्लू न रखा करो हमारे दोस्तों के सामने। अब यह सलवार सूट की जिद, मुझे अब नहीं रहना इसके घर। एक तो पहले ही महरी और मिसराइन का काम सौंप रखा है उस पर अब नई जिद।” पानी पीने रसोई की तरफ
बढ़ी तो बहू की सहेलियों की हँसी सुनाई दी- ””यार क्या आइटम है तेरी सास, कसम से!”
-0-

गतिविधियाँ

  • चर्चा में

    हरियाणा साहित्य-संगम में लघुकथा पर विचार -विमर्श( सुकेश साहनी और राम कुमार आत्रेय की भागीदारी ।)
    लघुकथा अनवरत-2017 का विश्व पुस्तक मेले में अयन प्रकाशन के स्टाल पर विमोचन।

  • सम्पर्क:-

    सुकेश साहनी

    185,उत्सव,महानगर पार्ट–2
    बरेली–243122 (उ.प्र.)

    sahnisukesh@gmail.com

    रामेश्वर काम्बोज ´हिमांशु´
    rdkamboj@gmail.com

    रचनाएँ भेजने के लिए पता-:-
    laghukatha89@gmail.com

    विशेष सूचना-:-
    पूर्व अनुमति के बिना लघुकथा डॉट कॉंम की सामग्री का उपयोग नहीं किया जा सकता ।

    -सम्पादक द्वय

Design by TemplateWorld and brought to you by SmashingMagazine