जनवरी-2018

देशआम आदमी     Posted: January 2, 2017

चुनाव–बुखार चरम सीमा पर था। सारा शहर, पोस्टरों, बैनरों, पैम्पलेटों से पटा पड़ा था। जगह -जगह लोग चाय की चुस्की या दारू के  घूँट के साथ, बहस में उलझे थे, मुद्दा था–आम आदमी।

फटा पाजामा, गंदा, मुड़ा–तुड़ा कुर्ता पहने एक खस्ता हाल आदमी उनके पास खड़ा था। उनसे बेखबर वह, न तो अपने बाएँ देख रहा था, और न ही दाएँ। वह ऊँचाई पर टंगे कपड़े के बैनरों को देख रहा था, नदीदी नजर से।

उसे प्रतीथा थी, कि कब यह मेला खत्म हो, कपड़ों की लूट हो, और उसे दो कपड़े मिल जाएँ, एक बिछाने को, दूसरा ओढ़ने को।

-0-

गतिविधियाँ

  • चर्चा में

    हरियाणा साहित्य-संगम में लघुकथा पर विचार -विमर्श( सुकेश साहनी और राम कुमार आत्रेय की भागीदारी ।)
    लघुकथा अनवरत-2017 का विश्व पुस्तक मेले में अयन प्रकाशन के स्टाल पर विमोचन।

  • सम्पर्क:-

    सुकेश साहनी

    185,उत्सव,महानगर पार्ट–2
    बरेली–243122 (उ.प्र.)

    sahnisukesh@gmail.com

    रामेश्वर काम्बोज ´हिमांशु´
    rdkamboj@gmail.com

    रचनाएँ भेजने के लिए पता-:-
    laghukatha89@gmail.com

    विशेष सूचना-:-
    पूर्व अनुमति के बिना लघुकथा डॉट कॉंम की सामग्री का उपयोग नहीं किया जा सकता ।

    -सम्पादक द्वय

Design by TemplateWorld and brought to you by SmashingMagazine