जून-2017

देशएक दिन का विश्वास     Posted: April 1, 2017

महिला दिवस की धूमधाम में  पुरुष ने महिला से कहा- “तुम महान हो , तुम हमारी सारी सुख-सुविधाओं का ध्यान रखती हो ..तुम खुद गीले में सोकर बच्चे को सूखे में सुलाती हो ..अपनी सारी इच्छाओ को परे करके परिवार की इच्छाओं को दिन-भर दौड़-दौड़कर पूरा करती हो ..पीढ़ियों को शिक्षित करने में तुम्हारा बहुत बड़ा योगदान है .।”

इसलिए आज मैं तुम्हारे लिए रात का खाना बनाऊँगा ..कि आज मैं तुम्हे होटल ले चलूँगा ..कि आज मैं तुम्हे शॉपिंग पर ले जाऊँगा।

महिला उठी और बोली -“ रहने दो तुम ,किचेन में चीजों को ढूँढ़ते रहोगे ; मैं खाना बना दूँगी …कि तुम्हे होटल का खाना पसंद नहीं ..कि शॉपिंग पे मैं जा नही सकती । कल से बेटे का फाइनल एग्जाम है . आज शाम की चाय बना देना उतना ही काफी है कि शॉपिंग के लिए  अगले सण्डे ले जाना।

पुरुष बोला -“ नहीं , आज ही मुझे खाना बनाना है ,क्योंकि खाना बनाते हुए व्हाट्स एप पर फोटो भेजना है या कि होटल आज ही जाना है, मेरे सभी दोस्त अपनी-अपनी बीबियों को आज ही लेकर जा रहे हैं,कि शॉपिंग पर आज ही जाना है; क्योंकि अगले सण्डे हमारी स्पेशल पार्टी होने वाली है।

महिला बोली- ठीक है होटल पर जाकर आइसक्रीम  खाकर वापस आ जाएँगे ।  खाना मैं बना देती हूँ, तुम प्लेट पकड़कर खड़े  हो जाना तुम्हारी व्हाट्सएप की डी.पी.तैयार कर दूँगी । शॉपिंग जब तुम्हे फुर्सत मिलेगी तब कर लूँगी।

पुरुष ने महिला  का हाथ चूमा-तुम सच में महान हो ..कितनी अच्छी हो तुम !

महिला ने पुरुष को चाय का प्याला थमाते हुए कहा -थैंक्स ।

पुरुष ने पूछा -किस बात का थैंक्स ..आज तो थैंक्स कहने का दिन हमारा है।

महिला बोली- इस बात का थैंक्स कि मेरे बारे में सोचने का तुम्हे आज अवसर तो मिला। इस बात का थैंक्स कि आज तुमने मुझे अपनी गरिमा को महसूसने का अवसर तो दिया।

-0- mgpt1997@rediffmail.com

गतिविधियाँ

  • चर्चा में

    हरियाणा साहित्य-संगम में लघुकथा पर विचार -विमर्श( सुकेश साहनी और राम कुमार आत्रेय की भागीदारी ।)
    लघुकथा अनवरत-2017 का विश्व पुस्तक मेले में अयन प्रकाशन के स्टाल पर विमोचन।

  • सम्पर्क:-

    सुकेश साहनी

    185,उत्सव,महानगर पार्ट–2
    बरेली–243122 (उ.प्र.)

    sahnisukesh@gmail.com

    रामेश्वर काम्बोज ´हिमांशु´
    rdkamboj@gmail.com

    रचनाएँ भेजने के लिए पता-:-
    laghukatha89@gmail.com

    विशेष सूचना-:-
    पूर्व अनुमति के बिना लघुकथा डॉट कॉंम की सामग्री का उपयोग नहीं किया जा सकता ।

    -सम्पादक द्वय

Design by TemplateWorld and brought to you by SmashingMagazine