मई-2018

देशऔकात     Posted: January 1, 2018

जज द्वारा दिए गए फैसले पर जब दोनों पक्षों के वकीलों ने हस्ताक्षर कर दिए , तो जीतनेवाले पक्ष के लोग कमल की माफिक खिल उठे।

हारनेवाले पक्ष के वकील ने कहा, ‘‘मुझे दुख है रामजीलाल, मैं तुम्हारा केस बचा न सका।’’ और वह तेजी से अपनी बस्ती की ओर चला गया। रामजीलाल के चेहरे पर विषाद और बरबादी के एवज में वकील के प्रति क्रूर भाव उभर आए थे। इतने महँगे और प्रसिद्ध वकील ने अंतिम दम पर कैसी बोगस बहस की थी! घर खाली कराने के आदेश पर वह कम से कम एक माह की मोहलत तो ले ही सकता था।

‘‘यार, मुझे रामजीलाल के हार जाने का बड़ा दुख है। अगर तुम्हारा दबाव नहीं होता, तो नत्थू उससे कभी भी घर खाली नहीं करवा सकता था।’’ यह बात रामजीलाल के वकील ने जीतने वाली पार्टी के वकील से कही।

‘‘वो तो ठीक है मिस्टर खुराना, पर इस बात के लिए आपको पूरा पाँच हजार कैश भी तो मिला है। आखिर तुम इतने दुखी क्यों हो? न जाने कितने गरीब रामजीलालों को तुम इसी तरह हरवा चुके हो!’’

इस पर मिस्टर खुराना ने ताजे खाए पान की ढेर सारी पीक को लापरवाही से एक ओर थूक दिया, जिस कारण अनेक बेकसूर चीटियाँ उस तंबाकू की पीक में जिंदा रहने की कोशिश करती हुई बिलबिलाने लगीं।

-0-

गतिविधियाँ

  • चर्चा में

    हरियाणा साहित्य-संगम में लघुकथा पर विचार -विमर्श( सुकेश साहनी और राम कुमार आत्रेय की भागीदारी ।)
    लघुकथा अनवरत-2017 का विश्व पुस्तक मेले में अयन प्रकाशन के स्टाल पर विमोचन।

  • सम्पर्क:-

    सुकेश साहनी

    185,उत्सव,महानगर पार्ट–2
    बरेली–243122 (उ.प्र.)


    sahnisukesh@gmail.com

    रामेश्वर काम्बोज ´हिमांशु´
    chandanman2011@gmail.com

    रचनाएँ भेजने के लिए पता-:-

    laghukatha89@gmail.com

    विशेष सूचना-:-

    पूर्व अनुमति के बिना लघुकथा डॉट कॉंम की सामग्री का उपयोग नहीं किया जा सकता ।

    -सम्पादक द्वय

Design by TemplateWorld and brought to you by SmashingMagazine