मई-2018

देशऔर यह वही था     Posted: January 1, 2018

तस्कर ने जब सौगंध खाई कि बस, अब मैं यह धंधा नहीं करूँगा, तो इधर इसने उस पर तमंचा दाग दिया। तमंचा सिर्फ आवाज करके रह गया। तस्कर जिंदा का जिंदा। यह देख उसने तमंचा देनेवाले की गर्दन पकड़ी।

इस गरीब ने बताया कि ‘‘मेरी क्या गलती है? यह तो मैंने खासी भरोसे की जगह सरकारी आर्डिनेंस फैक्टरी से चुराया था।’’

इस अफसर ने बताया, ‘‘मेरा क्या दोष? ऊपर आप अपने पिताजी की ही गर्दन पकड़िए।’’

और इसने जाकर सचमुच अपने पिता की भी गर्दन पकड़ी। बोला, ‘‘आपकी वजह से देश की फैक्टरियों में ऐसे गलत तमंचे बन रहे हैं।’’

इस पर पिता ने कहा, ‘‘तुमसे क्या छिपाऊँ बेटे! उसमें दोष मेरा है, पर पूरी तरह से मेरा ही नहीं ,माल जुटाने वाले ठेकेदार का भी है, पर ठेकेदार की गर्दन न पकड़ना। हम कहीं के नहीं रह जाएंगे।’’

और पिता से जब उसने ठेकेदार का नाम पूछा, तो ज्ञात हुआ, वह ओर कोई नहीं, वही तस्कर था, जिस पर उसने तमंचा दागा था।

-0-

गतिविधियाँ

  • चर्चा में

    हरियाणा साहित्य-संगम में लघुकथा पर विचार -विमर्श( सुकेश साहनी और राम कुमार आत्रेय की भागीदारी ।)
    लघुकथा अनवरत-2017 का विश्व पुस्तक मेले में अयन प्रकाशन के स्टाल पर विमोचन।

  • सम्पर्क:-

    सुकेश साहनी

    185,उत्सव,महानगर पार्ट–2
    बरेली–243122 (उ.प्र.)


    sahnisukesh@gmail.com

    रामेश्वर काम्बोज ´हिमांशु´
    chandanman2011@gmail.com

    रचनाएँ भेजने के लिए पता-:-

    laghukatha89@gmail.com

    विशेष सूचना-:-

    पूर्व अनुमति के बिना लघुकथा डॉट कॉंम की सामग्री का उपयोग नहीं किया जा सकता ।

    -सम्पादक द्वय

Design by TemplateWorld and brought to you by SmashingMagazine