नवम्बर-2017

देशकिन्नर ही तो था     Posted: September 1, 2017

ठाकुर साहेब !! आपको हमारी कसम मत ले जाए इसे, मैंने नौ महीने कोख में पाला इस जीव को,आप कैसे किसी और को दे सकते। हाय री किस्मत ! ब्याह के 10 बरस बाद दिया तो वोह भी ठूँठ! मेरे लिए तो मेरी संतान, मैं कही जंगल में रहकर पाल लूँगी। कम से कम माँ तो कहेगा मुझे,अभी तक बाँझ कहलाती थी,अब तो ना जाने क्या-क्या कहेंगे लोग’-बिलखती ठकुराइन की गोद से चंद घंटे की संतान को ज़बरदस्ती ले जाते हुए ठाकुर भी फूट-फूटकर रो दिए

’‘हम बाप बनकर भी ना बन सके। कैसे रखें इस गोल -मटोल प्यारे से बच्चे को अपने पास, तुम इसे पढ़़ाना’ अच्छा इंसान बनाना। तुमको पैसे की कभी कमी न होगी -कहकर रजनी किन्नर को सौंप आए। आज 28 बरस बाद वह ठूँठ अपने शहर का मेयर बना हुआ हैं। पुराने सब लोग जानते हैं-किसका बेटा हैं। आखिर ऊँचा माथा सुतवाँ नाक खानदानी रुआब वाला चेहरा चुगली कर रहा था टी-वी-पर शपथ कार्यक्रम देखते हुए दो जोड़ी बूढ़़ी आँखें एक दूसरे का हाथ थामे जार-जार रो रही थीं और कोस रही थी समाज को।

-0-,सी/2- 133 , जनकपुरी ,नई दिल्ली 110058

गतिविधियाँ

  • चर्चा में

    हरियाणा साहित्य-संगम में लघुकथा पर विचार -विमर्श( सुकेश साहनी और राम कुमार आत्रेय की भागीदारी ।)
    लघुकथा अनवरत-2017 का विश्व पुस्तक मेले में अयन प्रकाशन के स्टाल पर विमोचन।

  • सम्पर्क:-

    सुकेश साहनी

    185,उत्सव,महानगर पार्ट–2
    बरेली–243122 (उ.प्र.)

    sahnisukesh@gmail.com

    रामेश्वर काम्बोज ´हिमांशु´
    rdkamboj@gmail.com

    रचनाएँ भेजने के लिए पता-:-
    laghukatha89@gmail.com

    विशेष सूचना-:-
    पूर्व अनुमति के बिना लघुकथा डॉट कॉंम की सामग्री का उपयोग नहीं किया जा सकता ।

    -सम्पादक द्वय

Design by TemplateWorld and brought to you by SmashingMagazine