सितम्बर-2017

चर्चा मेंकुरुक्षेत्र में लघुकथा गोष्ठी आयेजित     Posted: September 1, 2017

राधेश्याम भारतीय
प्रेमचंद जयंती के उपलक्ष्य पर हरियाणा प्रादेशिक लघुकथा मंच करनाल के तत्वावधान में डा.ॅ ओमप्रकाश ग्रेवाल अध्ययन संस्थान कुरूक्षेत्र में एक लघुकथा गोष्ठी का आयेजन किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता पूर्व प्रधानाचार्य एवं साहित्यकार डॉं ओमप्रकाश करूणेश ने की। वहीं मुख्य अतिथि बाल मुकुन्द गुप्त सम्मान से सम्मानित रामकुमार आत्रेय की गरिमामय उपस्थित रही। विशिष्ठ अतिथि पटियाला से पहुंचे योगराज प्रभाकर रहे। मंच के संरक्षक डॉ अशोक भाटिया ने सर्वप्रथम कथा सम्राट प्रेमचंद की जयंती पर सबको शुभकामना देते हुए साहित्य में प्रेमचंद जी के योगदान पर प्रकाश डाला। फिर लघुकथा विधा पर भी अपने विचार व्यक्त किए।
कुरुक्षेत्रउपस्थित लघुकथाकार जिनमें अम्बाला से कुणाल शर्मा, नफे सिंह काद्यान, करनाल से सतविन्द्र राणा, मदन लाल, राधेश्याम भारतीय, कुरुक्षेत्र से अरूण कुमार, मनजीत सोनी, निर्मल, कमलेश चौधरी, विनोद धवन, मलखान सिंह, दीपक मासूम हरपाल और सोनीपत से सरोज दहिया सभी ने दो-दो लघुकथाएं पढ़ी। जिसमें एक स्वरचित तो दूसरी वह, जो लेखक को किसी अन्य लेखक की रचना पसन्द थी।
इस अवसर पर विशिष्ठ अतिथि योगराज प्रभाकर ने लघुकथा की विशेषताएं दर्शाते हुए अनेक लेखकों की प्रसिद्ध लघुकथाएं सुनाकर सबको मन मोह लिया।
मुख्यअतिथि रामकुमार आत्रेय ने कहा कि प्रेमचंद साहित्य को मशाल मानते थे जो समाज को रोशनी देती हुई आगे ही आगे बढ़ती है। हर लेखक साहित्य साधना करते हुए अपनी रचना को उस मशाल की तरह बना ले। लेखक की पहचान उसकी रचना से होती है।
अध्यक्ष महोदय ने गोष्ठी में सुनाई गई लघुकथाओं पर सारगर्भित टिप्पणी प्रस्तुत की।
मंच संचालन राधेश्याम भारतीय ने किया।
-0-

प्रस्तुति-राधेश्याम भारतीय,नसीब विहार कालोनी,घरौंडा करनाल 132114
मो-09315382236

गतिविधियाँ

  • चर्चा में

    हरियाणा साहित्य-संगम में लघुकथा पर विचार -विमर्श( सुकेश साहनी और राम कुमार आत्रेय की भागीदारी ।)
    लघुकथा अनवरत-2017 का विश्व पुस्तक मेले में अयन प्रकाशन के स्टाल पर विमोचन।

  • सम्पर्क:-

    सुकेश साहनी

    185,उत्सव,महानगर पार्ट–2
    बरेली–243122 (उ.प्र.)

    sahnisukesh@gmail.com

    रामेश्वर काम्बोज ´हिमांशु´
    rdkamboj@gmail.com

    रचनाएँ भेजने के लिए पता-:-
    laghukatha89@gmail.com

    विशेष सूचना-:-
    पूर्व अनुमति के बिना लघुकथा डॉट कॉंम की सामग्री का उपयोग नहीं किया जा सकता ।

    -सम्पादक द्वय

Design by TemplateWorld and brought to you by SmashingMagazine