अप्रैल-2018

देशगंगा स्नान     Posted: April 1, 2018

 ब्राह्ममुहूर्त की वेला और गंगा के किनारे तक तंबुओं में टिमटिमाती रोशनी में भक्तजन ‘जय गंगा मैया’ के उद्घोष के साथ गंगा-स्नान करन जा रहे हैं। कुछ गंगा-स्नान का पुण्य लाभ करके लौट रहे हैं। उनमें वे पाँच भी हैं, जो पिछले दिनों से गंगा के एकांत छोर पर अपना डेरा जमाए हुए है। तंबू में प्रवेश करते उनमें से एक बोला, ‘‘यार, आज स्नान  में कुछ भी आनंद नहीं आया। एक भी ढंग की चीज नज़र नहीं आई।’’ दूसरे ने टोका, ‘‘अबे चुप भी कर, अभी रात बाकी है। अपनी लाल परी निकाल।’’ तीसरे ने ताश फेंटने शुरू किए। अब वे पाँचों शराब के दौर और ताश की बाजी में खो गए।

एक नारी-स्वर ने पाँचों को चौंका दिया। उनमें से एक बाहर आया तो देखा: एक प्रौढ़ा भिखारिन एक शिशु को गोद में लिये एक अबोध की     उँगली पकड़े याचना की मुद्रा में खड़ी है। उसने सिर से पाँव तक उसको भरपूर दृष्टि से देखा और भीतर बुला लिया। पाँचों ने कुछ खुसर-पुसर की और सौदा पटा लिया। भिखारिन ने बच्चे को एक ओर बिठा दिया।

थोड़ी देर बाद ज्यों ही वह बाहर निकली, उनमें एक ने कहा, ‘‘मुझे एक बार फिर गंगा-स्नान करना पड़ेगा।’’

चारों एक साथ बोल पड़े, ”हमें भी।’’

-0-

गतिविधियाँ

  • चर्चा में

    हरियाणा साहित्य-संगम में लघुकथा पर विचार -विमर्श( सुकेश साहनी और राम कुमार आत्रेय की भागीदारी ।)
    लघुकथा अनवरत-2017 का विश्व पुस्तक मेले में अयन प्रकाशन के स्टाल पर विमोचन।

  • सम्पर्क:-

    सुकेश साहनी

    185,उत्सव,महानगर पार्ट–2
    बरेली–243122 (उ.प्र.)


    sahnisukesh@gmail.com

    रामेश्वर काम्बोज ´हिमांशु´
    chandanman2011@gmail.com

    रचनाएँ भेजने के लिए पता-:-

    laghukatha89@gmail.com

    विशेष सूचना-:-

    पूर्व अनुमति के बिना लघुकथा डॉट कॉंम की सामग्री का उपयोग नहीं किया जा सकता ।

    -सम्पादक द्वय

Design by TemplateWorld and brought to you by SmashingMagazine