जून-2017

भाषान्तरधारणा(सिन्धी)     Posted: August 2, 2016

अनुवाद( देवी नागरानी)

माँ हिन शहर में बिल्कुल अनजान हुयुस. काफी डुक-डोर करे कंह तरह पासी मुहल्ले में हिकु मकान गोल्हे सघ्युस. ट्यो डींहु ही कुटिंब शिफ़्ट कयो हो. गाल्ह गाल्ह में आफ़िस में ख़बर पई त माँ पंहंजे कुटुंब सां पासी मुहल्ले में शिफ़्ट करे चुको आह्याँ. वड़े साहब छिरकंदे चयो -‘तव्हां पहिंजे परिवार साँ हिन मोहल्ले में रही सघंदा.’

‘छा कुछ गड़बड़ थी वई आहे सर?’ मूँ हैरानीअ साँ पुछो.

‘ तमाम गंदो मुहल्लो आहे. हिते घणो करे हर डींह कुछ न कुछ लफड़ो थींदो रहंदो आहे. सँभाल साँ रहणो पवंदव.’ साहब जे मथे ते चिन्ता जूँ रेखाऊँ उभरयूं-‘हीउ मुहल्लो गन्दे मुहल्ले जे नाले साँ बदनाम आहे. गुण्डागर्दी ब कुछ घणी आहे उत.’

माँ पहंजी सीट ते अची वेठों ई हुयस त व वडो बाबू अची पहुतो-‘सर तव्हाँ मकान गन्दे मुहल्ले में वरतों आहे. ’

‘लगे थो मूँ मकान वठी ठीक न कयो आहे.’ -मूँ पछतावे जे सुर में चयो.

‘हा, सर ठीक न कयो आहे. ही मुहल्लो रहण लायक नाहे. जेतरो जल्दी थी सघे, मकान बदले छड्यो’ -हुन पंहंज्यू अनुभवी अख़्यू मूँ ते टिकाए छड्यूँ.

हिन मुहल्ले में अचण जे करे माँ घणी चिंता में पइजी व्युस. घर जे साम्हूँ पान-टाफ़ी विकणण वारे खोखे ते नज़र पई. खोखेवारो कारो-कलूटो मुछुनवारो, हिक दम गुण्डो थे नज़र आयो. कचर-कचर पान चबाईंदे हू अजा ब घणो भवाइतो पे लगो. सचमुच माँ ग़लत जगह ते अची व्यो आह्याँ. मुखे सञी रात ठीक साँ निंड न आई. छित ते कँह जे टिपण जो आवाज़ आयो. मुहिंजा साहु सुकी व्यो. माँ डिञंदे डिञंदे उथ्युस. बिना आहट जे बाहिर आयुस. दिल ज़ोर साँ धड़की रही हुई. खुड् ते नज़र वई, उते हिक बिल्ली वेठी हुई.

अजु बिपहरन जो बाज़ार माँ अची करे लेटियुस त अख लगी वई. थोड़ी देर में दरवाज़े ते खड़को थ्यो. दरवाज़ो खुल्यल हो, माँ हड़बड़ाइजी करे उथयस.

साम्हूं उहोई पान वारो मुछन्दर बीठो मुरकी रह्यो हो. बिपहरन जो सन्नाटो हुयो. मुखे कट्यो त खून ही न हुजे.

‘छा गाल्ह आहे? मूँ पुछ्योमांस

‘ शायद तव्हांजो ई बार हूंदो. टाफ़ी वठण लाइ मूं वट आयो. हुन ही नोट मुंखे डिनो’-चवंदे हुन पान वारे सौ जो नोट मूंडे वधायों. माँ छिरक्युस. ही सौ जो नोट मुहिंजी ख़मीस जे खीसे में हो. डिठो – खीसो खाली हो. लगे थो सोनूअ चुपचाप मुंहिंजे खीसे माँ सौ जो ही नोट कढी वरतो हो.

‘ टाफ़ीअ जा घणा पैसा थ्या?”

‘सिर्फ़ पन्झा पैसा, वरी कड़ंह वठंदोसांव”-हू कचर-कचर पान चबाईंदे मुरक्यो. हुन जो चहरो उजली मुरक में वेड्हयल हो. -‘चंगो बाबू साहब, प्रणाम ! ’ चई हू मोटी व्यो.

माँ ख़ुद खे हींअर तमाम घणो हलको महसूस करे रह्यो होस.

-0-

गतिविधियाँ

  • चर्चा में

    हरियाणा साहित्य-संगम में लघुकथा पर विचार -विमर्श( सुकेश साहनी और राम कुमार आत्रेय की भागीदारी ।)
    लघुकथा अनवरत-2017 का विश्व पुस्तक मेले में अयन प्रकाशन के स्टाल पर विमोचन।

  • सम्पर्क:-

    सुकेश साहनी

    185,उत्सव,महानगर पार्ट–2
    बरेली–243122 (उ.प्र.)

    sahnisukesh@gmail.com

    रामेश्वर काम्बोज ´हिमांशु´
    rdkamboj@gmail.com

    रचनाएँ भेजने के लिए पता-:-
    laghukatha89@gmail.com

    विशेष सूचना-:-
    पूर्व अनुमति के बिना लघुकथा डॉट कॉंम की सामग्री का उपयोग नहीं किया जा सकता ।

    -सम्पादक द्वय

Design by TemplateWorld and brought to you by SmashingMagazine