नवम्बर-2017

देशपति परमेश्वर     Posted: January 2, 2015

एक लड़का और एक लड़की की शादी हुई । बहुत खुश थे! स्टेज पर फोटो सेशन शुरू हुआ! दूल्हे ने अपने दोस्तों का परिचय साथ खड़ी अपनी साली से करवाया-‘‘ये है मेरी साली, आधी घरवाली।’’
दोस्त ठहाका मारकर हँस दिए!
दुल्हन मुस्कुराई और उसने भी अपने देवर का परिचय अपनी सहेलियों से करवाया-‘‘ये हैं मेरे देवर ,आधे पति परमेश्वर।’’
ये क्या हुआ… अविश्वसनीय …अकल्पनीय! भाई समान देवर के कान सुन्न हो गए! पति बेहोश होते होते बचा! दूल्हे, दूल्हे के दोस्तों, रिश्तेदारों सहित सबके चेहरे से मुस्कान गायब हो गई! लक्ष्मन रेखा नाम का एक गमला अचानक स्टेज से नीचे टपककर फूट गया! स्त्री की मर्यादा नाम की हेलोजन लाइट भक्क से फ्यूज हो गयी!
थोड़ी देर बाद एक एम्बुलेंस तेजी से सड़कों पर भागती जा रही थी, जिसमें दो स्ट्रेचर थे!एक स्ट्रेचर पर भारतीय संस्कृति कोमा में पड़ी थी…शायद उसे अटैक पड़ गया था!
दूसरे स्ट्रेचर पर पुरुषवाद घायल अवस्था में पड़ा था…उसे किसी ने सर पर गहरी चोट मारी थी!
आसमान में अचानक एक तेज आवाज गूँजी …भारत की सारी स्त्रियाँ एक साथ ठहाका मारकर हँस पड़ी थीं!

-0-

गतिविधियाँ

  • चर्चा में

    हरियाणा साहित्य-संगम में लघुकथा पर विचार -विमर्श( सुकेश साहनी और राम कुमार आत्रेय की भागीदारी ।)
    लघुकथा अनवरत-2017 का विश्व पुस्तक मेले में अयन प्रकाशन के स्टाल पर विमोचन।

  • सम्पर्क:-

    सुकेश साहनी

    185,उत्सव,महानगर पार्ट–2
    बरेली–243122 (उ.प्र.)

    sahnisukesh@gmail.com

    रामेश्वर काम्बोज ´हिमांशु´
    rdkamboj@gmail.com

    रचनाएँ भेजने के लिए पता-:-
    laghukatha89@gmail.com

    विशेष सूचना-:-
    पूर्व अनुमति के बिना लघुकथा डॉट कॉंम की सामग्री का उपयोग नहीं किया जा सकता ।

    -सम्पादक द्वय

Design by TemplateWorld and brought to you by SmashingMagazine