दिसम्बर-2017

देशपुराना दरवाजा     Posted: March 1, 2015

यह दरवाजा कई बरसों से उनकी नजर में था । दादाजी की हवेली से खोला गया था । नक्काशीदार चौखट, मजबूत किंवाड़, किंवाड़ों पर दिलकश मांडणे । देखते तो उनका हिया जुड़ा जाता । सोचते, जब भी नवनिर्माण होगा खास कमरे में यह खास दरवाजा जरूर लगवायेंगे । दादाजी की धरोहर के रूप में ।
वे तो कुछ विशेष नहीं कर पाये । हाँ, बेटा कमाऊ निकला । पैसा सहेजना जानता है । अब मन माफिक बंगला बनवा रहा है । वे भी बहुत खुश हैं । खास तौर से यह सोचकर कि अब दादाजी वाले दरवाजे के दिन फिरने को हैं । बरसों बाद उनके मन की मुराद पूरी होने वाली है ।
मकान इस स्तर तक पहुँच गया था कि चौखटें फिट की जा सके । उन्होंने एक कमरे में वह बहुप्रतीक्षित दरवाजा लगवा ही दिया ।
उस दिन बेटा कहीं बाहर था । आकर देखा तो माथा भन्ना गया । उसने कारीगर की तरफ रोषपूर्ण दृष्टि फेंकी और जरा तेज स्वर में पूछा कि यह बाबा आदम के जमाने का दरवाजा यहाँ क्यों लगाया है ?
“बाबूजी ने कहा था ।”
बेटे ने किया ‘हुंह’ और कारीगर को डपटा, “हटाओ इस भंगार को अभी का अभी । मैंने नई फैशन के दरवाजे बनवा लिए हैं, समझे ।”
कारीगर ने अपने ‘सेठजी’ की आज्ञा का पालन करते हुए दरवाजा खोलकर दूर एकांत कोने में ले जाकर खड़ा कर दिया ।
बाबूजी देखते रह गए । उन्हें लगा कि वहाँ पुराना दरवाजा नहीं बल्कि वे स्वयं खड़े हैं । अडोल ।

गतिविधियाँ

  • चर्चा में

    हरियाणा साहित्य-संगम में लघुकथा पर विचार -विमर्श( सुकेश साहनी और राम कुमार आत्रेय की भागीदारी ।)
    लघुकथा अनवरत-2017 का विश्व पुस्तक मेले में अयन प्रकाशन के स्टाल पर विमोचन।

  • सम्पर्क:-

    सुकेश साहनी

    185,उत्सव,महानगर पार्ट–2
    बरेली–243122 (उ.प्र.)

    sahnisukesh@gmail.com

    रामेश्वर काम्बोज ´हिमांशु´
    rdkamboj@gmail.com

    रचनाएँ भेजने के लिए पता-:-
    laghukatha89@gmail.com

    विशेष सूचना-:-
    पूर्व अनुमति के बिना लघुकथा डॉट कॉंम की सामग्री का उपयोग नहीं किया जा सकता ।

    -सम्पादक द्वय

Design by TemplateWorld and brought to you by SmashingMagazine