अक्तुबर-2017

देशपेंशनर     Posted: September 1, 2015

उसे रिटायर हुए कोई पांच महिने बीत गये थे. अभी तक पेंशन ग्रेच्युअटी आदि के नाम पर उसे एक धेला भी नहीं मिला था. अब तक की गई छोटी-मोटी बचत भी घर खर्च में काम आ गई थी. इधर बेटी की शादी तय हो गई वह अलग. उसे यह तो मालूम था कि ईमानदारी और तंगी का चोली-दामन का साथ है ;लेकिन उसकी हक की बकाया रकम मिलने में भी इतनी परेशानी होगी यह उसने नहीं सोचा था. उसका धैर्य चुकने लगा था.
इधर सरकार ने आदेश जारी करने में कुछ महीनों की देरी कर दी तो उधर सम्बन्धित बैंक में सरकारी आदेश प्राप्त हो जाने पर भी उसे पेंशन तक नहीं मिल रही थी. पेंशन ग्रेच्युअटी आदि मिला कर कोई दस लाख रुपयें की रकम बैंक ने रोक रखी थी.
’’आप मेरी बकाया रकम क्यों नही दे रहे हैं? आखिर क्या चाहते है आप?’’ एक दिन वह बैंक मैनेजर से भिड़ ही पड़ा.
’’देखिये, बडी रकम का मामला है. सरकारी आदेशों का सत्यापन हमारे हेड आफिस से होता है. मामला अभी प्रोसेस में है. हो जायगा चार पाँच दिनों में ’’मैनेजर ने उसे शांत करना चाहा.
चार पाँच दिनों की जगह पन्द्रह दिन बीत गए। इस बार वह दनदनाता हुआ बैंक मैनेजर के कक्ष में घुसा. उसकी आँखों से अंगारें बरस रहे थे. उसने बिना कुछ बोले अपनी पास बुक बैंक मैनेजर के सामने रख दी. बैंक मैनेजर ने उसकी ओर देखा और स्थिति की गंभीरता को देखते हुए उसने अपने हाथ का काम छोड़कर पहले उसके पेंशन खाते का विवरण कम्प्यूटर पर देखा.
’’आपके पेंशन आदि आदेशों का सत्यापन तो हो चुका है. लेकिन एक प्रॉब्लम है’’ ’’अब क्या?’’
’’आप गत इकतीस अक्टूबर को रिटायर हुए थे। ओह! क्या मनहूस तारीख है! आप तो जानते हैं उस दिन इंदिरा गाँधी की…………….खैर, बात यह है कि हर नवम्बर में पेंशनर को अपने जीवित होने का प्रमाण पत्र देना होता है. आपने नहीं दिया. इसलिए, रकम-भुगतान पर ऊपर से रोक लगी हुई है. सॉरी……………..‘‘
’’क्या? अब आपको मेरे जीवित होने का प्रमाण चाहिए? पिछले पाँच महिनों से आप ही के बैंक से मेरे बचत खाते में जमा मामूली पूँजी में से घर खर्च के लिए थोड़ी थोड़ी रकम मैं उठाता रहा हूं. और आज फरवरी में आप मुझे कह रहे हैं कि मैं गत नवंबर में जीवित था या नहीं?
“अब यह तो नियम की बात है. आप अभी प्रमाण पत्र दे दीजिए दस-पन्द्रह दिनों में आपका भुगतान क्लियर हो जायगा’’.
पेंशनर का माथा भन्ना उठा. उसने अपने थैले में से अचानक पिस्तौल निकाली और अपनी कनपटी पर रखते हुए बोला-“मैं आपको अपने जीवित होने का प्रमाण-पत्र अभी देता हूं. सिर्फ पन्द्रह मिनट है, आपके और मेरे पास, मिस्टर मैनेजर..!………..ठीक तीन बजकर पन्द्रह मिनट बाद मेरी लाश यहाँ पड़ी मिलेगी और आपको प्रमाण पत्र मिल जायगा कि पन्द्रह मिनट पहले तक मैं यहाँ जीवित था’’

’’रुको रुको…..भाई! ऐसा मत करो, मै अभी कुछ करता हूं’’ मैनेजर ने काँपते हाथों से तुंरत फोन लगा कर अपने हेड -आफिस बात की. अपने बॉस से टेलिफोनिक अप्रूवल लेकर उसने तुरंत ही उस पेंशनर के बैंक-खाते में उसकी बकाया रकम दस लाख तेईस हजार पाँच सौ रुपये क्रेडिट कर दिये.
’’अब तो ठीक है. बस, इस फार्म पर आप दस्तखत कर दें’’ पेंशनर को उसकी पास बुक थमाते हुए मैनेजर के हाथ अभी भी काँप रहे थे.
’’ यह आपके बच्चेां के काम आएगी’’ पेंशनर ने फार्म पर दस्तखत करने के बाद मैनेजर की टेबल पर पिस्तौल रखते हुए कहा. वह एक ब्रांडेड कंपनी की खिलौना- पिस्तौल थी.
-0-

गतिविधियाँ

  • चर्चा में

    हरियाणा साहित्य-संगम में लघुकथा पर विचार -विमर्श( सुकेश साहनी और राम कुमार आत्रेय की भागीदारी ।)
    लघुकथा अनवरत-2017 का विश्व पुस्तक मेले में अयन प्रकाशन के स्टाल पर विमोचन।

  • सम्पर्क:-

    सुकेश साहनी

    185,उत्सव,महानगर पार्ट–2
    बरेली–243122 (उ.प्र.)

    sahnisukesh@gmail.com

    रामेश्वर काम्बोज ´हिमांशु´
    rdkamboj@gmail.com

    रचनाएँ भेजने के लिए पता-:-
    laghukatha89@gmail.com

    विशेष सूचना-:-
    पूर्व अनुमति के बिना लघुकथा डॉट कॉंम की सामग्री का उपयोग नहीं किया जा सकता ।

    -सम्पादक द्वय

Design by TemplateWorld and brought to you by SmashingMagazine