सितम्बर-2017

देशबचत     Posted: September 1, 2017

सहेजने की आदत उसने  माँ से सीखी थी। माँ हमेशा कहतीं कि थोड़़ी-थोड़ी बचत जब आड़़े वक्त पर काम आती है तब इसकी अहमियत पता चलती है। और सबसे बड़ी बात किसी के आगे हाथ नहीं फैलाना पड़ता। यही अच्छी गृहिणी की निशानी है। माँ की यह सीख उसने गाँठ में बाँध ली थी। क्या किराना, क्या रुपया- पैसा वह हर चीज में कुछ न कुछ बचत जरूर करती। जरूरत के समय जब यह सब निकालती तो उसे अपने आप पर बड़ा गर्व होता। खुशी मिलती। आँखें चमक उठतीं।

कई दिनों बाद आज फुर्सत मिलने पर उसने पुरानी साड़ियों को ठीक करने का मन बनाया था। कुछ तो उसने कई दिनों से बाहर नहीं निकालीं थीं। एक-एक साड़ी को सहेजते हाथ फेरते उससे जुड़ी स्मृतियाँ उभर रहीं थीं। सोच रही थी महिलाएँ कितनी लालची होती हैं कपड़े-लत्ते, जेवर की। अचानक एक साड़़ी से हजार के दो नोट और पाँच सौ के तीन नोट टप्प से टपक पड़े। आश्चर्य से उसकी आँखें फटी रह गईं। ‘‘अरे‘‘। विस्मय से शब्द फूटे। मुस्कराहट फैल गई। नोट सीधे किए। सहलाए। एक-एक लम्हा याद आया। कैसे थोड़ा-थोड़ा बचत कर छोटे नोटों को बड़े में बदलते उसने जमा किए थे ये रुपये।

अचानक मुस्कराहट और विस्मय निराशा में बदल गए। काश समय रहते देख लिया होता इन्हें…..। नोटबंदी के बाद अब तो ये कागज के टुकड़े हैं। सिर्फ कागज के टुकड़े….। भरी आंखों से आँसू टप्प-टप्प साड़ियों की परतें भिगोने लगे।

-0-gajendra.namdeo@gmail.com

गतिविधियाँ

  • चर्चा में

    हरियाणा साहित्य-संगम में लघुकथा पर विचार -विमर्श( सुकेश साहनी और राम कुमार आत्रेय की भागीदारी ।)
    लघुकथा अनवरत-2017 का विश्व पुस्तक मेले में अयन प्रकाशन के स्टाल पर विमोचन।

  • सम्पर्क:-

    सुकेश साहनी

    185,उत्सव,महानगर पार्ट–2
    बरेली–243122 (उ.प्र.)

    sahnisukesh@gmail.com

    रामेश्वर काम्बोज ´हिमांशु´
    rdkamboj@gmail.com

    रचनाएँ भेजने के लिए पता-:-
    laghukatha89@gmail.com

    विशेष सूचना-:-
    पूर्व अनुमति के बिना लघुकथा डॉट कॉंम की सामग्री का उपयोग नहीं किया जा सकता ।

    -सम्पादक द्वय

Design by TemplateWorld and brought to you by SmashingMagazine