अगस्त-2017

देशबुनियाद     Posted: April 1, 2017

अशोक जी फाइलें समेट।कर कार्यालय से घर के लिए निकले ही थे कि शहर के प्रमुख कान्ट्रक्टरो में से एक खुराना साहब मिल गए- “अरे अशोकजी आप तो साकेत मे रहते है ना ! मै भी उधर ही जा रहा था, चलिए आप को भी ड्राप कर दूँ।”  इच्छा न होते हुये भी अशोकजी उनके साथ चल पड़े।

खुरानाजी की कार साकेत की ओर दौड़ पड़ी, आपसी वार्तालाप कुशलक्षेम से होता हुआ उस ‘टेन्डर’ तक पहुँच गया ,जो आजकल अशोकजी की फाइलो में बन्द था।

खुरानाजी कुछ मुस्कराकर बोले- “अशोकजी ये समाज एक दूसरे के सहयोग से ही चलता है, अब आप हमारे काम आएँगे तो हम तो आप के काम आएँ ही।”  अशोकजी खामोश रहे ।वे खुरानाजी की उनको ‘लिफ्ट’ देने की कृपा को पूरी तरह समझ गये थे।

घर के पास पहुँचने पर उन्होने खुरानाजी को कार रोकने का इशारा किया। कार एक ओर रोकने के बाद खुरानाजी अशोकजी के साधारण और पुराने घर की ओर नज़र मारते हुए अर्थपूर्ण मुस्कान के साथ बोले- “बड़े बाबू ,आपके मकान की बुनियाद तो बहुत ही कमजोर है, हमारा साथ दो ,तो घर का कायाकल्प कर देंगे।।”

अशोक जी कार से नीचे उतरे और मुस्करा पड़े- “खुराना साहब, घर छोड़ने के लिए धन्यवाद ! एक बात मै आपको कहना चाहूँगा -इस घर की बुनियाद कमजोर हो सकती है ; लेकिन इस घर में रहने वालो की बुनियाद बहुत मजबूत है, उसे हिलाने की कोशिश करना व्यर्थ है।”

अपनी बात पूरी करते हुए अशोक जी घर की ओर मुड़ चुके थे।

-0-

 

गतिविधियाँ

  • चर्चा में

    हरियाणा साहित्य-संगम में लघुकथा पर विचार -विमर्श( सुकेश साहनी और राम कुमार आत्रेय की भागीदारी ।)
    लघुकथा अनवरत-2017 का विश्व पुस्तक मेले में अयन प्रकाशन के स्टाल पर विमोचन।

  • सम्पर्क:-

    सुकेश साहनी

    185,उत्सव,महानगर पार्ट–2
    बरेली–243122 (उ.प्र.)

    sahnisukesh@gmail.com

    रामेश्वर काम्बोज ´हिमांशु´
    rdkamboj@gmail.com

    रचनाएँ भेजने के लिए पता-:-
    laghukatha89@gmail.com

    विशेष सूचना-:-
    पूर्व अनुमति के बिना लघुकथा डॉट कॉंम की सामग्री का उपयोग नहीं किया जा सकता ।

    -सम्पादक द्वय

Design by TemplateWorld and brought to you by SmashingMagazine