जून-2017

देशबूढ़े पाखी     Posted: February 1, 2015

देवीलाल पार्क के लंबे चौड़े ‘वाकिंग ट्रैक’ के सात चक्कर लगा कर थककर बेला बेंच पर बैठी ही थी कि उसकी नज़रों को बाँध लिया सामने से चली आ रही एक वृद्ध जोड़ी ने। ‘ट्रैक सूट’ पहने वृद्ध सज्जन एक हाथ में छड़ी थामें थे और दूसरे में अपनी सुदर्शना वृद्धा पत्नी का हाथ,जिनके गोरे माथे पर सूरज सी बिंदिया दमक रही थी और सफ़ेद बालों के बीच माँग में सिंदूरी रेखा खिंची हुई थी। वे आहिस्ता–आहिस्ता क़दम रखकर चलते हुए आकर बेला की बग़ल वाली बेंच पर बैठ गए। पति ने जेब से रूमाल निकाल कर पत्नी के माथे का पसीना पोंछा और पानी की छोटी सी बोतल का ढक्कन खोलकर उनके हाथ में थमा दी। फिर वे ‘आस्था चैनल’ पर देखे किसी आध्यात्मिक प्रसंग पर चर्चा करने लगे कि अचानक वृद्ध सज्जन खाँसने लगे। पत्नी ने झट पर्स से निकाल कर कोई गोली…शायद विक्स की ,उन्हें थमाई और उठकर उनकी पीठ सहलाने लगी और मिठास से फटकारने लगी,‘मना किया था न कि चाट–गोलगप्पे ना खाओ , पर आप हैं कि….‘उनकी खाँसी थम गई और वह मुस्कुराए,‘तुम्हारी क़सम अब नहीं खाएँगे ।’
बेला की आँखें भर आईं। वह समझ गई कि ये वो बूढ़े पाखी हैं ; जिनके चुरुगन पंखों में प्राण पड़ते ही इन्हें इनके हाल पर छोड़कर दूर कहीं उड़ गए और ये सौम्य–सरल पति–पत्नी एक–दूजे के दिल में जीने का उत्साह और उमंग जगाते हुए बड़े प्रेम से जी रहे हैं…..एक–दूसरे का सहारा बन कर….एक–दूजे के लिए।
-0-

गतिविधियाँ

  • चर्चा में

    हरियाणा साहित्य-संगम में लघुकथा पर विचार -विमर्श( सुकेश साहनी और राम कुमार आत्रेय की भागीदारी ।)
    लघुकथा अनवरत-2017 का विश्व पुस्तक मेले में अयन प्रकाशन के स्टाल पर विमोचन।

  • सम्पर्क:-

    सुकेश साहनी

    185,उत्सव,महानगर पार्ट–2
    बरेली–243122 (उ.प्र.)

    sahnisukesh@gmail.com

    रामेश्वर काम्बोज ´हिमांशु´
    rdkamboj@gmail.com

    रचनाएँ भेजने के लिए पता-:-
    laghukatha89@gmail.com

    विशेष सूचना-:-
    पूर्व अनुमति के बिना लघुकथा डॉट कॉंम की सामग्री का उपयोग नहीं किया जा सकता ।

    -सम्पादक द्वय

Design by TemplateWorld and brought to you by SmashingMagazine