जून-2017

देशबूढी सिन्ड्रैला     Posted: February 1, 2015

बूढी सिन्ड्रैला

मोहिनी वत्स ने दर्पण में निहारा तो वह स्वयं को पहचान नही पा रही थी। विवाह की पच्चीसवीं वर्षगाँठ पर दिया गया हीरे और पन्ने का सैट जिसे उन्होंने पति के बाद कभी पहना ही नही तथा उससे मैच करती हरे रंग की किनारी वाली सफेद साडी।उनके मन में टीस-सी उठी कि वह घर में रहें या बाहर जाएँ किसी को इससे कोई प्रयोजन नही। उनका घर में होना या न होना तभी गौरतलब होता है जब कोई सेविका या परिचारिका छुट्टी पर हो।उन्होंने बहुत चाहा कि वह यह बात दोनों बेटों और बहुओं से कह पाएँ कि वह आज किसी के घर या मंदिर कीर्तन-भजन के लिए नही बल्कि राष्ट्रपति-भवन में एक भव्य कार्यक्रम में ”सरस्वती-वंदना” लिए आमंत्रित हैं।उनके अपने जाने की बात कहने पर किसी ने कुछ नही पूछा तो कुछ भी जिक्र करने का प्रश्न नही उठता।
दोपहर का समय था, डाइनिंग। हाॅल में टी वी चल रहा था। दोनों बहुएँ आज एक साथ खाने की मेज पर थी, दोनों बडे बच्चे स्कूल से आ गए थे । कपडे बदलकर खाने के लिए आ बैठे थे कि सहसा गर्वित ने कहा – दादी टी वी वाली औरत जैसी लग रही है।उसकी बात पर कोई ध्यान देता कि दरवाजे पर घंटी बज उठी।इस बार अर्पित उठा और दरवाजे पर पहुचकर बोला – मम्मा ! राष्ट्रपति भवन से कोई सी डी आई है मिसेज वत्स के नाम से । दोनों बहुएँ जैसे ही उठने को हुईं कि अर्पित ने मोहिनी से कहा – दादी , यह सी डी आपके नाम से आई है। दोनो बहुओं के चेहरे फक्क पड गए ।वे हैरान होकर कभी सुरीले स्वर में तन्मय होकर गाती हुई मनमोहिनी गायिका को देखतीं ,कभी सूती साड़ी मे लिपटी अस्त-व्यस्त सास मोहिनी को देखतीं; जो बडे सलीके से खाना परोस रही थीं ।
-0-

गतिविधियाँ

  • चर्चा में

    हरियाणा साहित्य-संगम में लघुकथा पर विचार -विमर्श( सुकेश साहनी और राम कुमार आत्रेय की भागीदारी ।)
    लघुकथा अनवरत-2017 का विश्व पुस्तक मेले में अयन प्रकाशन के स्टाल पर विमोचन।

  • सम्पर्क:-

    सुकेश साहनी

    185,उत्सव,महानगर पार्ट–2
    बरेली–243122 (उ.प्र.)

    sahnisukesh@gmail.com

    रामेश्वर काम्बोज ´हिमांशु´
    rdkamboj@gmail.com

    रचनाएँ भेजने के लिए पता-:-
    laghukatha89@gmail.com

    विशेष सूचना-:-
    पूर्व अनुमति के बिना लघुकथा डॉट कॉंम की सामग्री का उपयोग नहीं किया जा सकता ।

    -सम्पादक द्वय

Design by TemplateWorld and brought to you by SmashingMagazine