जून-2017

देशबड़प्पन     Posted: June 1, 2017

बड़प्पन/ दीपक मशाल

आज फिर घर पहुँचते ही कपिल ने पानी से पहले सहचरी से जवाब माँगा

–  कोई पार्सल आया क्या?

– न… नहीं आया, मैंने व्हाट्सएप्प पर मैसेज भी भेजा उसे पर आपकी वज़ह से विधु मुझसे भी बात नहीं करती।

– क्या.. क्या मेरी वज़ह से? तुम्हे भी लगता है कि सारी गलती मेरी है? अरे वो भी कोई दूध पीती बच्ची तो नहीं जो हालात न समझती हो, तुम्हें तो लगता है कि मैं ही दुश्मन हूँ सबका।

विफर पड़ा कपिल।

– मेरा वह मतलब नहीं, लेकिन आप बड़े हैं कम से कम पहल तो…

ऋचा ने समझाने की कोशिश की।

– हाँ, बुरा-भला भी मैं सुनूँ और पहल भी मैं ही करूँ, अच्छा दोहा हुआ कि ‘छिमा बड़ेन को चाहिए, छोटेन को उत्पात’ खूब फ़ायदा उठाते हैं लोग…

– विधु लोग नहीं है, तुम्हारी अपनी बहन है कपिल।

कहते हुए उसने देखा कि कपिल की नज़र दाएँ हाथ की कलाई पर टिकी है जो उसकी चालीस साल की उम्र में पहली बार कल सूनी रहने जा रही थी।

 

अगले दिन सुबह कपिल से रहा नहीं गया, उसने उठते ही मुम्बई से दिल्ली का एक वापसी का एयर टिकट बुक किया और छोटी अटैची में अपने कपड़े लगाने लगा, ऋचा मुस्कुराते हुए उसकी मदद कर रही थी। उसने पूछा

– कितने बजे की है फ्लाइट?

– अभी साढ़े दस की है, आठ बजे तक घर से निकलना होगा एयरपोर्ट के लिए। विधु को मैसेज करके बताना मत कि मैं आ रहा हूँ। कल शाम तक वापस लौट आऊँगा।

– ओके।

आठ बजे कपिल ने कर स्टार्ट ही की थी कि सामने से एक टैक्सी आकर रुकी, पल भर में विधु अपने पति और बच्चे के साथ उसके सामने खड़ी थी। भावुक भाई बहन को सीने से लगाते हुए सिर्फ इतना कह सका

– विद्दो, आख़िर मुझसे बड़ी हो गई तू।

-0-

गतिविधियाँ

  • चर्चा में

    हरियाणा साहित्य-संगम में लघुकथा पर विचार -विमर्श( सुकेश साहनी और राम कुमार आत्रेय की भागीदारी ।)
    लघुकथा अनवरत-2017 का विश्व पुस्तक मेले में अयन प्रकाशन के स्टाल पर विमोचन।

  • सम्पर्क:-

    सुकेश साहनी

    185,उत्सव,महानगर पार्ट–2
    बरेली–243122 (उ.प्र.)

    sahnisukesh@gmail.com

    रामेश्वर काम्बोज ´हिमांशु´
    rdkamboj@gmail.com

    रचनाएँ भेजने के लिए पता-:-
    laghukatha89@gmail.com

    विशेष सूचना-:-
    पूर्व अनुमति के बिना लघुकथा डॉट कॉंम की सामग्री का उपयोग नहीं किया जा सकता ।

    -सम्पादक द्वय

Design by TemplateWorld and brought to you by SmashingMagazine