नवम्बर-2017

देशमम्मा डार्लिंग     Posted: January 1, 2015

मम्मा आज की शूटिंग कैसी रही ?
बहुत अच्छी , डार्लिग डॉटर।
मम्मा , आपके नये एड की थीम क्या है ?
डार्लिंग , इस एड की थीम समझने के लिए अभी तुम बहुत छोटी हो।
उसमे ऐसा क्या है , प्लीज़ बताइये मम्मा ।
पर तुम यह क्या खा रही हो ?
मम्मा ,यह वही कुरकुरे हैं , जिनका एड आपने किया है और एड हिट हुआ है ।
डार्लिंग , यह कुरकुरे आपकी हेल्थ बिगाड़ सकते हैं।
पर मम्मा ! आपने एड में तो इसको पौष्टिकता से भरपूर बताया है ?
बेटा ! एड की एक स्क्रिप्ट होती है जिसे मैं नहीं लिखती , यह काम दुसरे लोग करते हैं , वी आर जस्ट एकटर्स डार्लिंग।
तो क्या इन कुर्कुरों में पौष्टिक तत्व नहीं हैं ?
यह टेस्टी हो सकते हैं पर पौष्टिक तो बिलकुल नहीं हैं क्योकि इनमें टेस्ट एड करने के लिए इन्हें खास किस्म के केमिकल्स के साथ फ्राई किया जाता है।
वे खास किस्म के केमिकल्स क्या हैं ?
वे केमिकल्स , सिंथेटिक होते हैं और हेल्थ के लिए डेंजरस भी हो सकते हैं।
फिर तो मम्मा , आपको ऐसे प्रोडक्ट का एड नही करना चाहिए।
डार्लिंग ! देट इस नाट आवर बिजनस।हम तो एक्टर हैं। हमे अपने काम से मतलब हैं। नहीं करेंगे तो न फेम मिलेगा , न नेम और न ही मनी।
मम्मा ! टीचर कहती हैं कि हमें ऐसा कोई काम नहीं करना चाहिए , जिससे दूसरों का नुक्सान होता हो।
बिटिया ! टीचर हैं तो बच्चों से टीचर वाली ही बात करेंगी। उन्हें माँ – बाप की प्रॉबलम्स थोड़े डिस्कस करनी है।
कौन सी प्रॉबलम्स ! मम्मा ?
वो सब बाद में। पहले तुम यह कुरकुरे खाने बंद करो।
ठीक है , नहीं खाती।अब तो बता दीजिये कि आपके नये एड की थीम क्या है ?
कहा न , पहले थोड़ी बड़ी हो जाओ , फिर पूछना।
मैं बड़ी हूँ , बताइये न प्लीज।
नहीं मानती तो सुनो।.न्य एड लेडीज अंडर – गारमेंट्स पर है।इसको लेकर तुम्हारी मम्मी बहुत एक्साइटेड है.
वो क्यूँ मम्मा ?
वो इस लिए कि इस एड में पहली बार आपकी मम्मा को अपनी फिगर शो करने का मौका मिलेगा और इस एड के बाद आपकी मम्मा की पहचान किसी बालीवुड ऐक्ट्रेस जैसी हो जाएगी ।
यू आर ग्रेट मम्मा , यू आर माई डार्लिंग मम्मा।
ग्रेट – व्रेट बाद में , तुम अपना माइंड अपनी पढ़ाई पर लगाओ और हाँ हमारे प्रोडूसर ने नये एड को लांच करने के लिए शाम को एक पार्टी रक्खी है , मैं रात को आने में लेट हो जाऊँ गीं। तुम डिनर लेकर सो जाना।मेरी वेट मत करना।
डैडी का फोन आए तो क्या कहूँ ?
तुम्हारे डैडी जब टूर पर होते हैं , तो जल्दी सो जाते हैं।इसलिए फोन नहीं आएगा फिर भी आए तो कह देना कि मम्मी थकी हुई थीं , सो गयीं।सुबह आपसे खुद बात कर लेंगी।
ओ।के।मम्मा डार्लिंग।
-0-

गतिविधियाँ

  • चर्चा में

    हरियाणा साहित्य-संगम में लघुकथा पर विचार -विमर्श( सुकेश साहनी और राम कुमार आत्रेय की भागीदारी ।)
    लघुकथा अनवरत-2017 का विश्व पुस्तक मेले में अयन प्रकाशन के स्टाल पर विमोचन।

  • सम्पर्क:-

    सुकेश साहनी

    185,उत्सव,महानगर पार्ट–2
    बरेली–243122 (उ.प्र.)

    sahnisukesh@gmail.com

    रामेश्वर काम्बोज ´हिमांशु´
    rdkamboj@gmail.com

    रचनाएँ भेजने के लिए पता-:-
    laghukatha89@gmail.com

    विशेष सूचना-:-
    पूर्व अनुमति के बिना लघुकथा डॉट कॉंम की सामग्री का उपयोग नहीं किया जा सकता ।

    -सम्पादक द्वय

Design by TemplateWorld and brought to you by SmashingMagazine