नवम्बर-2017

देशमज़हब     Posted: November 1, 2015

बारिश ऐसी मुसलाधार कि रुकने का नाम ही नहीं ले रही। लगता था जैसे आकाश फट गया हो। देखते-देखते बाढ़ का रूप ले लिया। पूरे गाँव में अपरा-तफरी मच गई। जाएँ तो कहाँ कुछ समझ नहीं आ रहा था। बहुत से ढोर-डंगर भी बह गए थे। नसीब से कुछ बैलगाड़ियाँ बच गईं थीं सो बड़े बूढ़ों और बच्चों को उनमें लाद पीछे-पीछे मर्दों-औरतों का हुजूम चल पड़ा। एक से दूसरे, दूसरे से तीसरे गाँव घूमते लोग परेशान हो गए सभी गाँव का बुरा हाल था। कहीं ठौर नहीं, हार कर सब शहर की ओर चल पड़े। गाँव और शहर की सीमा के मध्य कई एकड़ खाली ज़मीन पड़ी थी और दूर से कहीं काला धुँआ उठता दिख रहा था। परिवारों को वहीं बिठा डरे-डरे सारे गवंई मर्द भौचक्के से उस ओर खोजने चल दिए कि आखिर वहाँ क्या हो रहा है। वह क्या जानें कि कुछ वर्ष पूर्व ही यहाँ कई फैक्टरियाँ और ईंटों के भट्ठे लगे थे और यह धुँआ उन्ही फैक्टरियों से निकल रहा है।
वहीं पास के भट्ठे के मालिक बलराम ने आवाज़ लगाई -अरे तुम सब मुँह उठाए यहाँ क्या रहे हो, काम की तलाश में हो क्या?
धनीराम बोल उठा हाँ कोई काम मिलेगा क्या?
हाँ—
क्या ईंटें बनाने का काम आता है
—नहीं,पर सीख लेंगे।
ठीक है आ जाओ।
गंवैयों कि खुशी का ठिकाना ना था। दो जून की रोटी का जुगाड़ तो हो गया जो जरूरी था बाकी जीवन तो कैसे भी कट जाएगा।
बलराम ने एक-एक से उसका मज़हब बताने को कहा ताकि अलग-अलग तरफ को झोंपड़ियाँ बनवा दे, कहीं कल को जाति-पाँति मज़हब का कोई झगड़ा ना हो।
उनमें से एक बोला बोला-बाबू जी ईंटों की तरह मज़दूर की न कोई जाति होती है न कोई मज़हब होता है। ईंट को जहां लगा दो ,उसी की हो जाएगी। मज़दूर को जो भी दो जून की रोटी दे ,वही उसका ख़ुदा।
-0-

गतिविधियाँ

  • चर्चा में

    हरियाणा साहित्य-संगम में लघुकथा पर विचार -विमर्श( सुकेश साहनी और राम कुमार आत्रेय की भागीदारी ।)
    लघुकथा अनवरत-2017 का विश्व पुस्तक मेले में अयन प्रकाशन के स्टाल पर विमोचन।

  • सम्पर्क:-

    सुकेश साहनी

    185,उत्सव,महानगर पार्ट–2
    बरेली–243122 (उ.प्र.)

    sahnisukesh@gmail.com

    रामेश्वर काम्बोज ´हिमांशु´
    rdkamboj@gmail.com

    रचनाएँ भेजने के लिए पता-:-
    laghukatha89@gmail.com

    विशेष सूचना-:-
    पूर्व अनुमति के बिना लघुकथा डॉट कॉंम की सामग्री का उपयोग नहीं किया जा सकता ।

    -सम्पादक द्वय

Design by TemplateWorld and brought to you by SmashingMagazine