जुलाई -2018

देशवंश बेल     Posted: March 1, 2018

गुलाबो देवी कन्या इंटर कॉलेज’ के भव्य द्वार पर लाल रिबन कटते ही तालियाँ बज उठीं । मंच की ओर बढ़ते-बढ़ते डी एम साहेबा ने पूछा , “सरपंच जी ! जिनकी स्मृति में यह विद्यालय बना उनके परिवार से कौन-कौन है ।”

“अब आपसे क्या छुपाना मैडम जी, चौधरी साहब की यही एक बहू थी , जिसे तीसरी बेटी के जन्म पर घर से निकाल दिया गया था । मैके में ही ख़त्म हो गई बिचारी । कुछ दिन बाद बेटे ने भी पी-पीकर जान दे दी । मामा-नाना ने बच्चियों की कोई खबर न दी । वंश ख़त्म जी , खूब पछताए चौधरी साहब । सारी ज़मीन लड़कियों का स्कूल बनाने के लिए दान में देकर चल बसे , अब कोई नाम लेवा नहीं।”

“ कैसे नहीं है …वही तो मैं हूँ ..तीसरी लड़की ..ताया जी ।”  ..कहते हुए डी एम साहेबा ने ताज़े फूलों का हार गुलाबो देवी जी के चित्र पर गर्व से चढ़ाकर आदर से हाथ जोड़ दिए ।

-0-

गतिविधियाँ

  • चर्चा में

    हरियाणा साहित्य-संगम में लघुकथा पर विचार -विमर्श( सुकेश साहनी और राम कुमार आत्रेय की भागीदारी ।)
    लघुकथा अनवरत-2017 का विश्व पुस्तक मेले में अयन प्रकाशन के स्टाल पर विमोचन।

  • सम्पर्क:-

    सुकेश साहनी

    185,उत्सव,महानगर पार्ट–2
    बरेली–243122 (उ.प्र.)


    sahnisukesh@gmail.com

    रामेश्वर काम्बोज ´हिमांशु´
    chandanman2011@gmail.com

    रचनाएँ भेजने के लिए पता-:-

    laghukatha89@gmail.com

    विशेष सूचना-:-

    पूर्व अनुमति के बिना लघुकथा डॉट कॉंम की सामग्री का उपयोग नहीं किया जा सकता ।

    -सम्पादक द्वय

Design by TemplateWorld and brought to you by SmashingMagazine