जून -2018

मेरी पसन्दशून्य से क्षितिज तक लघुकथा का विस्तार     Posted: December 1, 2017

लघुकथा विधा से मेरा सबसे पहला परिचय खलील जिब्रान, झेन गुरुओं और आध्यात्मिक विचारों के प्रेषण को पठनीय बनाने वाले गुरु – शिष्य आदि के वार्तालाप के रूप  में सजी कथाओं के माध्यम से हुआ। अन्तरा करवड़ेविद्यालयों की चूना पुती दीवारों पर नीली स्याही से सुवाच्य अक्षरों में लिखे हुए सुभाषित जब वास्तविक जीवन दर्शन को कम शब्दों में रोचक तरीके से आपके सामने प्रस्तुत कर देते हैं, तब वास्तव में किसी पवित्र नदी से मिलने जैसा सुख मिलता है। नदी वही होती है, उसमें स्नान करने, निहारने , तैरने और अनुभव करने वाले प्रत्येक के साथ उसका संवाद, अनुभूति और प्रवाह अलग होता है।

यही विचार मुझे लघुकथा विधा को लेकर अनुभूत होते हैं। यहाँ पर मुझे इस विधा में शब्द सीमा, काल खण्ड, विसंगतियाँ , कथ्य, शिल्प आदि को लेकर कुछ भी कहने का कोई अधिकार नही है;  क्योंकि वास्तविक स्वरूप  में मैने इस विषय में कभी कुछ नही पढ़ा और न ही लघुकथा लिखते समय इस बारे में कभी कुछ सोचा।

जब आप किसी आध्यात्मिक रूप  से उन्नत स्थान पर जाते हैं, तब वहाँ की पवित्र तरंगें आप स्वयं अपने अन्तस तक महसूस करते हैं। अनेक क्षण होते हैं जब समर्पित हो जाने को, बह जाने को मन करता है। अब तक के जीवन पर क्षोभ भी होता है। हम अन्दर उतरते जाते हैं, मौन होते जाते हैं। अभिव्यक्ति के  लिए शब्दों की आवश्यकता कम होने लगती है।

यही स्थिति जब सांसारिक स्वरूप  में होती है, भौतिक ताना बाना आस पास होता है, साहित्य संबंधी तत्वों से मेल मिलाप होता है, उन क्षणों में, साहित्य के आध्यात्मिक रूप  से उच्च प्रकारों में, लघुकथा का जन्म होता होगा।

पढ़ने के  लिए समय कम होना, इस हेतु से लघुकथा लोकप्रिय नही होने वाली। लिखने के  लिए ही कम शब्दों की आवश्यकता है और अभिव्यक्ति यदि कम शब्दों में सम्पूर्णता को पा सकती है, यह स्थिति लघुकथा के  लिए आदर्श हो जाती है।

मेरे अनुसार, लघुकथा विधा के दो स्वरूप  सामने आते हैं। जैसा कि पहले उल्लेखित है, झेन कथाएं, दार्शनिकों के संवादों, गुरु शिष्य, संसारी व्यक्ति और विरक्त आदि के मध्य होने वाले संवाद, समस्या समाधान आदि के द्वारा हमें मार्ग दिखाती, जीवन के वास्तविक अर्थ से जोड़ती, अन्तस में झांकने का अवसर देने वाली कथाएं। इनमें विरक्ति का भाव इतना प्रबल है कि लेखक का भी नाम नही होता। यह वही स्थिति है, जो आपको पवित्र आध्यात्मिक तीर्थ स्थल पर, साधना की तरंगों के मध्य अनुभूत होती हैं; परन्तु भौतिक स्वरूप  में बंधा व्यक्ति, हमेशा तो हिमालय में, तीर्थ स्थलों पर, पावन नदियों के तटों पर जीवन यापन नही कर सकता। उन स्मृतियों को संजोए, वह अपने घर लौट आता है। उन्ही आपसी सम्बन्धों  में, धन, भोजन, ऊँच- नीच और भागदौड़ के अनिवार्य जंजाल में उलझता है। कोई आश्चर्य नहीं कि सोने के पिंजरे में बंद पक्षी के समान जल्द ही मनुष्य को यह जंजाल भी उतना ही प्रिय लगने लगता है।

इस अनिवार्य वापसी के बाद शुरु होती है हमारे भौतिक जीवन की लघुकथा। घर संसार, दैनिक दिनचर्या, दफ्तर, सरकार, व्यवस्था, बचपन, यौवन, वृद्धावस्था, आपसी  सम्बन्ध  और कभी- कभी अपराध, व्यवसाय, स्त्री विमर्श जैसे विषयों पर शब्द विन्यास करती लघुकथा। इसे जितना परिभाषित करते हैं, उतना ही परिवेश और स्वयं को कहते जाते हैं।

जीवन को जीते हुए जब हमें परिस्थितियों से ऊपर उठ जाने की कला आ जाती है, तब  सम्बन्ध , व्यवहार, यहाँ तक कि आस पास की निर्जीव वस्तुओं की उपस्थिति में भी अस्तित्व के धागे मिलने लगते हैं। किसी सुन्दर रचना के समान हमारे जाने पहचाने रास्ते, वृक्ष, यहाँ तक कि महक भी यह क्षमता रखती है कि हमारी सोच का विस्तार करे।

अब इन्ही धरातलों पर अपने सशक्त अस्तित्व को प्रकट करती हुई दो लघुकथाओं की बात करते हैं।

मेरी पसंद की पहली लघुकथा है, आदरणीय डॉ. सतीश दुबे की ’चौखट’

एक निर्जीव लकड़ी को लेकर विविध ताने बाने बुनती यह लघुकथा जैसे कुछ शब्दों में जीवन का सारा वृत्तांत हमारे सामने रख देती है। सजीव सम्बन्धों को भी उपेक्षा से नकारने वाले इस समय में, निर्जीव वस्तु को लेकर आधुनिकता के समक्ष दृढ़ता से खड़ा होता गृहस्वामी हमें तिनके का सहारा लगने लगता है। उहापोह के मध्य सकारात्मकता की जीत और अपने निर्णय के  लिए किसी के अनुमोदन को नकारना, स्वयं के प्रति पूर्णता देता है।

इन सभी ऊंचाईयों के अलावा, जीवन को देखने का एक स्नेहिल दृष्टिकोण भी हमें यह कथा दे जाती है। वर्णन के  लिए चुने गए शब्द भी इतने सजीव है कि लाल पोटली की कल्पना सहज ही होने लगती है, श्वेत वस्त्र पर हल्दी के लाजभरे कदम हम भी महसूस कर पाते हैं, गुलगोथने बच्चों के गृह प्रवेश के समय की उनकी भंगिमाओं के वर्णन पर मन विभोर हो जाता है। बेटियों की बिदाई के आंसुओं का मूक साक्षी होना जहाँ इस चौखट को एक जीवन्त तत्व प्रदान कर देता है, वहीं इसे इतिहास के साथ जोड़कर हम सभी को महत्वपूर्ण बना देता है।

’लक्ष्मीस्वरूपा बहुओं के आन्तरिक हर्ष वाद्य’  ’बाहर से लाई गई खुशियों को घर में बाँटे जाने वाले मनसूबों से लदे चरण की उल्लासभरी थिरकन’ ये कुछ वाक्य स्वयं इस लघुकथा के मुख पर पवित्र मनोभावों के समान है, जिनके होते इसे किसी कृत्रिम भाव के आभूषण से सजाने की आवश्यकता नही है।

डॉ.सतीश दुबे द्वारा लघुकथा विधा को लेकर जो मानक प्रस्तुत किये गए हैं, उनकी प्रत्येक कथा में परिलक्षित होते हैं, यह कथा बताती है कि सूक्ष्म दृष्टि भी जुड़ाव के बिना प्राप्त नही की जा सकती है।

मेरी पसंद की दूसरी लघुकथा है, माननीया उर्मि कृष्ण जी की ’समाज का दर्पण’

’वह’ नामक हम सभी के बीच का एक व्यक्तित्व है जो यहाँ से वहाँ तक के विस्तार में जीता है। यह कथा एक प्रकार से भौतिक जीवन की उलझनों से लेकर ऊंचाई के झूठे पैमानों तक को स्पर्श करती है। अपनी समस्याओं से ग्रस्त होकर व्यक्ति भगवान के पास जाने के स्थान पर लेखक के पास जाता है और अपनी व्यथा को शब्द देने को कहता है। यह मोड़ इस कथा को एक अलग स्थान प्रदान करता है। यहाँ थोड़ी अनिश्चय की स्थिति अवश्य बनती दिखाई देती है लेकिन आपसी संवाद, पार्श्वभूमि और परिस्थितियाँ  मिलकर इसे गति अवरोधकों से बचाते हुए फिर सुरम्य मार्ग पर ले आते हैं।

’जब दाँत साबुत थे , तब चने नही थे और अब चने हैं ,तो दाँत नही’ इस प्रकार की कहावतों को जीवन्त करती कथा सकारात्मक होकर भी बेचैन करती है और बेचैनी में भी पाठक पर निर्णय छोड़ देती है कि वह कभी नायक की स्थिति पर खुश या दुखी होता है, कभी स्वयं को टटोलता है, कभी लेखक को लेकर असमंजस में जाता है और अन्त में, ’नियति’ के सामने मुस्कुरा भर देता है। “दिमागी अय्याशी” जैसे शब्द कथा में पड़ाव के समान हैं, जहाँ पर सुस्ताकर हम अब तक की कथा को एक बार फिर से अनुभव में उतारते हैं, फिर आगे बढ़ते हैं।

उर्मि कृष्ण जी लेखिका कम और साधिका ज्यादा हैं। उनका कर्म, अनुभव और समर्पण रचनाओं में उभरकर सामने आता है। अनुभव के विविध सोपानों पर चढ़कर उनके तपे हुए शब्द संघर्ष और तप की अनुभूति देते हैं।

इन दोनो कथाओं के माध्यम से लघुकथा विधा की समृद्धि, क्षमता और विस्तार का परिदृश्य स्वाभाविक रूप  से सामने आ जाता है। किसी भी विधा को लेकर चर्चा, आलोचना, अभिव्यक्ति और सृजन समान रूप  से आवश्यक माने गए हैं। इसी मार्ग पर वर्तमान लघुकथा भी उत्तम गति प्राप्त कर चुकी है। इसे अनावश्यक उलझनों से बचकर, वाक्य विन्यासों की जादूगरी से परे, अनुभूतियों के साम्राज्य में अधिक समय बिताना होगा।

-0-

1-चौखट-डॉ.सतीश दुबे

चौखट-पूजा वाले दिन श्रीफल बदार कर मंत्रबद्ध पूजन सामग्री सहित लाल कपड़े में बांधी गई छोटी-सी पोटली मस्तिष्क में उभरकर आँखों के सामने आ गई। चौखट में दरवाजे का लगना और फिर मंगल प्रवेश।

शादी होने के पूर्व तक का खुशनुमा जीवन जीने तथा स्कूल से कॉलेज तक की शिक्षा के  लिए सब बच्चे इसी चौखट से निकले। बाहर से लाई गई खुशियों को घर में बाँटे जाने वाले मनसूबों से लदे चरण की उल्लासभरी थिरकन इसने महसूस की। देश विदेश से उपलब्धियाँ  प्राप्त कर लौटे बेटों तथा पहली बार आए दामादों का स्वागत भी तो सबसे पहले इसी ने किया। यही नही, शुभ्र वस्त्र पर हल्दी भरे चरण चिह्न अंकित कर छुई-मुई सी लजाती शरमाती लक्ष्मीस्वरूपा बहुओं का आंतरिक हर्ष वाद्यों के साथ प्रवेश हेतु आग्रह कर रही गृह तपस्विनी की छवि को इसने एलबम की तरह अपने में समाए रखा है। यदि मन के सूक्ष्म यंत्रों से देखा जाए, तो बेटियों को बिदा करते वक्त टपकी आँसुओं की ढ़ेर सारी बूँदे भी तो यहाँ दिखाई देगी। इस मायने में खुशी ही नहीं, न जाने कितने दर्द और कोलाहल की प्रतिध्वनियों को इस चौखट ने अपने में ज़ज्ब कर रखा है।

अंकित, प्रेक्षा, प्रीतांशु, पुनर्वसु तथा सूर्यांश अब तो बडों बडों के कान काटने लगे हैं, किन्तु इन्होंने जन्मदात्रियों की गोद में टुकुर- टुकुर आँखें घुमाते हुए इसी चौखट से तो प्रवेश कर जीवन को सँवारने की शुरुआत की।

अकबर महान के ’बुलंद दरवाजा’ की तरह जो दक्षिणमुखी प्रवेश द्वार, इतनी उपलब्धियों की नींव पर खड़ा हो, उसे अनिष्टकारी कैसे माना जा सकता है।

मस्तिष्क से अंतिम निर्णायक सूत्र मिलते ही उन्होंने निगाहें घुमाकर सामने बैठे वास्तुशास्त्री तथा भवन निर्माता की ओर देखा तथा दृढ़ता से बोले “ मि. फेन्गशुई, क्षमा कीजिएगा, वास्तु सिद्धांतों को अमल में लाने के  लिए मैं अतीत की सुखद इमारत पर हथौड़ा नही चला सकता…।

समाज का दर्पण-उर्मि कृष्ण

उसके पिता एक दुकान पर नौकर थे। घर में शादी के लायक दो जवान बहनें थी और दो छोटे भाई। उसने बी.ए. किया, फिर टाइप और शार्टहैण्ड सीखी। सेवायोजन कार्यालय के फेरे लगाने, आवेदनपत्रों के साथ पोस्टल ऑर्डर भेजने और इण्टरव्यू पर जाने का क्रम आरम्भ हुआ। महीनों पर महीने गुजरते गए, पर नौकरी नहीं मिली। उसकी आँखे बुझी-बुझी रहने लगीं और चेहरे पर निराशा की लकीरें मकड़ी के जाले की तरह छा गई।

एक दिन वह एक लेखक के पास गया और उसने कहा कि वह उस पर कहानी लिखे। लेखक ने उसे सिर से पैर तक देखकर पूछा, “तुम सन्त्रास महसूसते हो?”

युवक ने कहा, “सन्त्रास! यह क्या होता है?”

लेखन ने नाक बिचकायी, “अच्छा, अपनी कुण्ठाओं का विवरण दो।“ युवक ने घुटे हुए स्वर में कहा, “हम बहुत तंगी से जी रहे हैं, मुझे नौकरी नही मिल रही। बहने हैं…”

लेखक ने मुस्कुराते हुए उसकी बात बीच में ही काट दी, “यह गरीबी है, कुण्ठा नही। खैर, अजनबीपन, मृत्युबोध, मानसिक ग्रन्थियाँ … ये समस्याएँ हो तो बताओ।“

युवक बोला, “यह सब मैं नही समझता। मैं तो एक आम आदमी हूँ। मेरी समस्या कपड़ों की, बहनों के ब्याह की, महँगाई की…।“

“बन्धु, माफ करना, इन छोटी-छोटी बातों पर हम कहानीं नही लिखते। ये कोई बड़ी समस्याएँ नहीं हैं। क्लर्क, मजदूर, किसान, छोटे दुकानदार, मास्टर,,,, सभी की यही समस्याएँ हैं। कीड़े मकोड़ों की तरह भरे पड़े हैं ऎसे लोग। इन पर लिखा ही क्या जा सकता है। वास्तविक समस्याएं आन्तरिक और मनोवैज्ञानिक होती हैं…. बुद्धिजीवी की, चिन्तक की, अधिकारी की..” लेखक ने कहा।

कई साल बीत गए। उस युवक को नौकरी मिल गई। शादी हुई और दो बच्चे। वह प्रतिभावान था। अत: उन्नति करते करते शीघ्र ही ऊंचे पद पर पहुंच गया। अब उसे कम्पनी की ओर से बंगला और कार भी मिली हुई थी, लेकिन उसके जीवन में शान्ति नही थी। वह हर समय तनावग्रस्त और उद्विग्न रहता था। पत्नी से उसके सम्बन्ध बिगडते जा रहे थे। नौकरी में स्पर्धा, ईर्ष्या और अधिकारियों का दबाव उसे हरदम खाए डालता था। अब वह समझ गया था कि कुण्ठा क्या है, सन्त्रास किसे कहते हैं और अजनबीपन कैसा होता है।

एक दिन वह उसी लेखक के यहाँ पहुँचा और उसे अपनी कथा सुनाकर कहानी लिखने की विनती की। लेखक बोला, “भैए, तुम एक दशक देर से आए। अब मैं कुण्ठा, सन्त्रास और ग्रन्थियों पर कहानी नही लिखता… तुम नही जानते, यह सब पूँजीपतियों के चोंचले हैं, दिमागी अय्याशी है। इतनी भूख, गरीबी और बेकारी के होते हुए कुण्ठा और सन्त्रास की बात बेमानी है। अब मैं आम आदमी की कहानी लिखता हूँ। आसपास की कहानी, समान्तर कहानी। माफ़ करना..।“

गतिविधियाँ

  • चर्चा में

    हरियाणा साहित्य-संगम में लघुकथा पर विचार -विमर्श( सुकेश साहनी और राम कुमार आत्रेय की भागीदारी ।)
    लघुकथा अनवरत-2017 का विश्व पुस्तक मेले में अयन प्रकाशन के स्टाल पर विमोचन।

  • सम्पर्क:-

    सुकेश साहनी

    185,उत्सव,महानगर पार्ट–2
    बरेली–243122 (उ.प्र.)


    sahnisukesh@gmail.com

    रामेश्वर काम्बोज ´हिमांशु´
    chandanman2011@gmail.com

    रचनाएँ भेजने के लिए पता-:-

    laghukatha89@gmail.com

    विशेष सूचना-:-

    पूर्व अनुमति के बिना लघुकथा डॉट कॉंम की सामग्री का उपयोग नहीं किया जा सकता ।

    -सम्पादक द्वय

Design by TemplateWorld and brought to you by SmashingMagazine