जून -2018

देशसबका मालिक एक     Posted: April 1, 2018

गाँव से लौटी अम्मा चूल्हे के पास पड़ी चूलें हिली बेरंग छोटी- सी अल्मारी में नून ,तेल दालें और आटे से भरा कनस्तर देखकर एक बारगी ऐसे चुप खड़ी रह गई ,जैसे कुछ सोचने समझने की शक्ति ही न बची हो।  हैरान होते हुए, “अरे! आसिम यह क्या– कोई लाटरी-वाटरी लग गई क्या? या फिर…” कहते-कहते चुप हो गई।

“हम ग़रीबों के भाग में लाटरी कहाँ अम्मी।”

“तो यह सब इतना सारा राशन-वाशन।”

“छोड़ो अम्मी जाओ बस आज तो कुछ अच्छा सा खाना पका के खिलाओ।”

“सो तो ठीक है पर बता तो सही यह सब।”

“तुम यूँ समझ लो कि अल्लाह ने हमारी सुन ली। साल दो साल की दिहाड़ियाँ तो पक्की हो ही गईं ”- आँखों को खुशी से फैलाते हुए, “ठेकेदार को बहुत बड़ा मंदिर बनाने का ठेका जो मिला है। यूँ तो दिहाड़ी सुबह से शाम तक की होती है ;पर यहाँ तो रात के बारह-बारह बजे तक का काम मिला है। मतलब एक दिन में ढेड़ दिन की कमाई।”

कानों पर हाथ रखते हुए,  “ हाय अल्लाह यह क्या सुन रही हूँ। ख़ुदा ख़ैर करे–मुसलमान हो कर किसी मंदिर की चिनाई का काम करेगा।”

“क्यों अम्मी इसमें बुराई क्या है। इसी मंदिर के काम की ख़ातिर ही तो आज पहली बार घर में राशन की बहार देख रही हो। मंदिर का काम करने से जब मेरा अल्लाह ख़ुश है ,तो तुम्हें क्यों एतराज़ है। तुम्हीं न कहा करती थीं कि इस जहान में सबका मालिक एक है।”

-0-

गतिविधियाँ

  • चर्चा में

    हरियाणा साहित्य-संगम में लघुकथा पर विचार -विमर्श( सुकेश साहनी और राम कुमार आत्रेय की भागीदारी ।)
    लघुकथा अनवरत-2017 का विश्व पुस्तक मेले में अयन प्रकाशन के स्टाल पर विमोचन।

  • सम्पर्क:-

    सुकेश साहनी

    185,उत्सव,महानगर पार्ट–2
    बरेली–243122 (उ.प्र.)


    sahnisukesh@gmail.com

    रामेश्वर काम्बोज ´हिमांशु´
    chandanman2011@gmail.com

    रचनाएँ भेजने के लिए पता-:-

    laghukatha89@gmail.com

    विशेष सूचना-:-

    पूर्व अनुमति के बिना लघुकथा डॉट कॉंम की सामग्री का उपयोग नहीं किया जा सकता ।

    -सम्पादक द्वय

Design by TemplateWorld and brought to you by SmashingMagazine