नवम्बर-2017

देशान्तरसूली पर चढ़ते हुए     Posted: April 1, 2015

मैंने लोगों से चिल्लाकर कहा, ‘‘मैं सूली पर चढूंगा!’’
उन्होंने कहा, ‘‘हम तुम्हारा खून अपने सिर क्यों लें?’’
मैंने जवाब दिया, ‘‘पागलों को सूली पर चढ़ाए बगैर तुम कैसे उन्नति कर सकोगे?’’
वे सतर्क हो गए, और मैं सूली पर चढ़ा दिया गया। इससे मुझे शान्ति मिली।
जब मैं धरती और आकाश के बीच झूल रहा था तो उन्होंने मुझे देखने के लिए सिर उठाया। उनके चेहरे चमक रहे थे क्योंकि इससे पहले कभी उनके सिर इतने ऊंचे नहीं हुए थे।
मेरी ओर देखते हुए उनमें एक ने पूछा, ‘‘तुम किस पाप का प्रायश्चित कर रहे हो?’’
दूसरे ने चिल्लाकर पूछा, ‘‘तुमने अपनी जान क्यों दी?’’
तीसरे ने कहा, ‘‘तुम क्या सोचते हो, इस तरह तुम दुनिया में अमर हो जाओगे?’’
चौथा बोला, ‘‘देखो, कैसे मुस्करा रहा है? सूली पर चढ़ने की पीड़ा को कोई कैसे भूल सकता है?’’
तब मैंने उन्हें उत्तर देते हुए कहा, ‘‘मेरी मुस्कान ही तुम्हारे सवालों का जवाब है। मैं किसी तरह का प्रायश्चित नहीं कर रहा, न ही मैंने कुछ त्यागा है, न मुझे अमरता की कुछ चाहत है और न ही भूलने के लिए मेरे पास कुछ है। मैं प्यासा था और यही एक रास्ता बचा था कि तुम मेरे खून से ही मेरी प्यास बुझाओ। भला एक पागल आदमी की प्यास उसके खून के अलावा और किसी चीज से बुझ सकती है! तुमने मेरे मुँह पर ताले लगाए इसलिए मैंने तुमसे अपनी कटी जबान माँग ली। मैं तुम्हारी छोटी–सी दुनिया में कैद था इसलिए मैंने बड़ी दुनिया चुन ली। अब मुझे जाना है, उसी तरह जिस तरह से दूसरे सूली पर चढ़ने वाले चले गए। यह मत समझना हम सूली पर चढ़ाए जाने से उकता गए है––अभी तो हमें तुम्हारी जैसी दुनिया के दूसरे लोगों द्वारा बार–बार सूली पर चढ़ाया जाता रहेगा।
( अनुवाद: सुकेश साहनी)

गतिविधियाँ

  • चर्चा में

    हरियाणा साहित्य-संगम में लघुकथा पर विचार -विमर्श( सुकेश साहनी और राम कुमार आत्रेय की भागीदारी ।)
    लघुकथा अनवरत-2017 का विश्व पुस्तक मेले में अयन प्रकाशन के स्टाल पर विमोचन।

  • सम्पर्क:-

    सुकेश साहनी

    185,उत्सव,महानगर पार्ट–2
    बरेली–243122 (उ.प्र.)

    sahnisukesh@gmail.com

    रामेश्वर काम्बोज ´हिमांशु´
    rdkamboj@gmail.com

    रचनाएँ भेजने के लिए पता-:-
    laghukatha89@gmail.com

    विशेष सूचना-:-
    पूर्व अनुमति के बिना लघुकथा डॉट कॉंम की सामग्री का उपयोग नहीं किया जा सकता ।

    -सम्पादक द्वय

Design by TemplateWorld and brought to you by SmashingMagazine