जून-2017

देशस्वाभिमान     Posted: January 4, 2015

एक दफ्तर से दूसरे दफ्तर के चक्कर लगाते-लगाते बेहद थक गया था मैं। बस अड्डा हालाँकि बहुत दूर नहीं था, मगर एक तो गर्मी फिर थकान की वजह से मुझमें पैदल चलने की हिम्मत रही नहीं थी। लाचार होकर मैंने रिक्शे वाले को पुकारा उससे वहाँ तक का किराया पूछा। उसने पाँच रुपये माँ गे। मैं, लेकिन चार पर अड़ा रहा।कुछ देर सौदाबाजी करने के बाद आखिर वह चार रुपये में मान गया।
रास्ता चढ़ाई का था और मौसम बेहद गर्मी का। सामने की तेज हवाओं ने उसकी दिक्कत और भी बढ़ा दी। उसके शरीर से पसीना चू रहा था और वह बुरी तरह हाँफ रहा था। उसकी स्थिति दयनीय थी। मैं द्रवित हो उठा, कैसे हाँफ रहा है बेचारा। इसे तो मुँह माँगे रुपये देने भी कम हैं। इस बेचारे को पाँच ही दूँगा। किराया चार तय हुआ तो क्या।
रिक्शे से उतरकर मैंने उसे पाँच का नोट थमाया और एक रुपया लौटाने की प्रतीक्षा किए बगैर चल पड़ा। उसने मुझे रोका, ‘‘साब एक रुपया लेते जाइये।’’
‘‘अरे रहने दे। तू पाँच ही रख ले।’’
‘‘लेकिन किराया तो चार रुपये तय हुआ था।’’ वह एक रुपया मेरी तरफ बढ़ाए हुए था।’’
‘‘क्या फर्क पड़ता है, तू रख इसे। तुमने किराया माँगा भी पाँच ही था।’’
‘‘माँगा तो था, पर आप राजी तो नहीं हुए थे। किराया अगर पाँच रुपये तय हुआ होता, तो मैंने ले लिया होता, लेकिन अब…’
‘‘अरे कोई नहीं, रख ले इसे। बख्शीश समझकर ही रख ले और नहीं तो।’’
‘‘उसका चेहरा उत्तेजना से तमतमा आया, ‘‘वाह साब, क्या खूब सोच है आपकी।
पहले मजदूर की लाचारी का फायदा उठाते हुए, उसकी मजदूरी कम तय कर उसका शोषण करना, फिर दान का टुकड़ा डाल उसे भिखारी बना देना…उसके श्रम का सम्मान तो नहीं देंगे आप, भिखारी का अपमान उसे जरूर देंगे।’’ उसकी आवाज  में नफ़रत थी ।  उसने रुपया थमा दिया था।
वह चला गया। मैं अपराधी की तरह सिर झुकाए खड़ा था।

-0-

गतिविधियाँ

  • चर्चा में

    हरियाणा साहित्य-संगम में लघुकथा पर विचार -विमर्श( सुकेश साहनी और राम कुमार आत्रेय की भागीदारी ।)
    लघुकथा अनवरत-2017 का विश्व पुस्तक मेले में अयन प्रकाशन के स्टाल पर विमोचन।

  • सम्पर्क:-

    सुकेश साहनी

    185,उत्सव,महानगर पार्ट–2
    बरेली–243122 (उ.प्र.)

    sahnisukesh@gmail.com

    रामेश्वर काम्बोज ´हिमांशु´
    rdkamboj@gmail.com

    रचनाएँ भेजने के लिए पता-:-
    laghukatha89@gmail.com

    विशेष सूचना-:-
    पूर्व अनुमति के बिना लघुकथा डॉट कॉंम की सामग्री का उपयोग नहीं किया जा सकता ।

    -सम्पादक द्वय

Design by TemplateWorld and brought to you by SmashingMagazine