अप्रैल-2018

देशहड़ताल का अर्थ     Posted: February 1, 2017

SUDHEER MARYAमालिक के केबिन से निकलकर नंदन जब बाहर निकला तो उसकी छाती घमंड से चौड़ी थी।

आज कंपनी के मालिक ने उसकी चिरौरी की थी हड़ताल ख़त्म करने के लिए पर वो टस से मस नहीं हुआ था। उसे डबल बोनस हर हाल में चाहिए, अगर नहीं तो हड़ताल जारी।

केबिन से बाहर निकलते ही उसके पास श्याम भागते हुए था, लगभग गिड़गिड़ाते हुए बोला था- नंदन बाबू कुछ बीच रास्ता निकल के हड़ताल बंद कर दो घर पर बच्चे भूख से बिलबिला रहे हैं।

नंदन हेकड़ी से बोलते हुए – कुछ पाने के लिए कुछ खोना पड़ता हे, वहाँ से निकल गया था।

घर पर उसकी बीवी इन्तजार कर रही थी, बेटे को ज्वर 102डिग्री पहुँच गया है। नंदन के आते ही उसे बताती है।

नंदन आनन फानन उसे ऑटो में लेकर हस्पताल भागा।

रिशेप्सन काउंटर पर नर्स ने कहा- बच्चा एडमिट नहीं हो सकता ।

नंदन  ने पूछा-;क्यों ?’

नर्स – हास्पिटल में हड़ताल हे, कोई डॉक्टर नहीं हे।

नंदन को हड़ताल का अर्थ समझ में आने लगा था।

-0-

गतिविधियाँ

  • चर्चा में

    हरियाणा साहित्य-संगम में लघुकथा पर विचार -विमर्श( सुकेश साहनी और राम कुमार आत्रेय की भागीदारी ।)
    लघुकथा अनवरत-2017 का विश्व पुस्तक मेले में अयन प्रकाशन के स्टाल पर विमोचन।

  • सम्पर्क:-

    सुकेश साहनी

    185,उत्सव,महानगर पार्ट–2
    बरेली–243122 (उ.प्र.)


    sahnisukesh@gmail.com

    रामेश्वर काम्बोज ´हिमांशु´
    chandanman2011@gmail.com

    रचनाएँ भेजने के लिए पता-:-

    laghukatha89@gmail.com

    विशेष सूचना-:-

    पूर्व अनुमति के बिना लघुकथा डॉट कॉंम की सामग्री का उपयोग नहीं किया जा सकता ।

    -सम्पादक द्वय

Design by TemplateWorld and brought to you by SmashingMagazine