जून-2017

देशहालात     Posted: November 1, 2015

उसने अपनी फैक्टरी में कई बाल मजदूर रखे हुए थे। उन बाल मजदूरों के साथ गुलामों से भी बदतर व्यवहार हुआ करता था।
उस दिन एक नन्हा लड़का खुद ही उस फैक्टरी मालिक के पास आया और काम माँगने लगा। मालिक को बड़ी हैरत हुई। उसे मालूम था कि बाल मजदूर खोज निकालना आसान नहीं होता। इसके लिए पेशेवर दलाल होते है,जो फैक्ट्री मालिकों से अच्छी रकम वसूलते है। तभी वे बच्चों का जुगाड़ करते है। अबकोई बच्चा खुद ही आ गया तो उसे क्या? उसने बच्चे को काम पर रख लिया।
अगले ही दिन उस नन्हें बच्चे की माँ आ धमकी और उसने अपने बच्चे को वापिस माँगा। मालिक डर गया और उसने बच्चे को वापिस जाने के लिए कहा। मगर बच्चा तैयार नहीं हुआ। माँ उस बच्चे को घसिटने लगी। बच्चा रोने लगा, ‘‘मुझे नहीं जाना,नहीं जाना।मैं यहीं ठीक हूँ।’’
मालिक ने भी बच्चे को बहुत समझाया। मगर बच्चा टस–मस नहीं हुआ। उसने अपनी माँ से कहा, ‘‘मुझे घर पर कौन- सा आराम है? दिनभर पेलती रहती हो। खाने को रूखा–सूखा डाल देती हो, मुझे नहीं जाना।’’
बच्चा नहीं गया। फैक्टरी मालिक अब भी हैरत में था। उसने उसकी माँ की असलियत पता कराई। मालूम हुआ, वह उस बच्चे की सौतेली माँ थी।
-0-

गतिविधियाँ

  • चर्चा में

    हरियाणा साहित्य-संगम में लघुकथा पर विचार -विमर्श( सुकेश साहनी और राम कुमार आत्रेय की भागीदारी ।)
    लघुकथा अनवरत-2017 का विश्व पुस्तक मेले में अयन प्रकाशन के स्टाल पर विमोचन।

  • सम्पर्क:-

    सुकेश साहनी

    185,उत्सव,महानगर पार्ट–2
    बरेली–243122 (उ.प्र.)

    sahnisukesh@gmail.com

    रामेश्वर काम्बोज ´हिमांशु´
    rdkamboj@gmail.com

    रचनाएँ भेजने के लिए पता-:-
    laghukatha89@gmail.com

    विशेष सूचना-:-
    पूर्व अनुमति के बिना लघुकथा डॉट कॉंम की सामग्री का उपयोग नहीं किया जा सकता ।

    -सम्पादक द्वय

Design by TemplateWorld and brought to you by SmashingMagazine