जून-2017

देशहिसाब     Posted: June 1, 2017

दुई किलो आटा और सौ ग्राम दाल दै दो। “ 

हम तो देने के लिए बैठे हैं धनिया लेकिन बदले में हमें भी तो कुछ मिले । “ 

खूब समझती थी बनिये का मतलब लेकिन जब्त कर गई “एमकी दशहरा पर सारा अगला पिछला चुकता कर देंगे , सरितिया के बाउ बोले हैं फोन पर चिंता मति करो।” 

बनिया ने खींसें निपोरी ” पैसे तो देर सबेर आ ही जाएँगे भागे थोड़े जा रहे हो गाँव छोड़कर और अब तो बिटिया भी कालेज जाने लगी होगी , तू क्यों हाड़ तोड़ती है, उसी को भेज दिया कर सामान लेने फुर्र से ले आया करेगी साइकिल से ।” सामान देते हुए बनिए ने हाथ पकड़ने की असफल कोशिश की , लेकिन उसने तेजी से हाथ खींचते हुए कहा” उसके पास कहां टैम है कालेज के बाद उ का कहते हैं भौकसिंग सीखने जाती है कह रही थी मेरीकोम बनेगी।” 

बनिए पर मानों किसी ने गर्म तेल डाल दिया हो उसने दाँत भींचते हुए कहा ” उसके बाप से कहना अब तक का हिसाब पाँच हजार सात सौ हो गया है। “ 

धनिया मुस्कुराते हुए सोच रही थी चलो पैसे का छोड़कर सब हिसाब अब बराबर हो गया ।

-0-ग्राम+पो०- शाहपुर  उण्डी (पटोरी),जिला- समस्तीपुर (बिहार)पिन –848504  ;मो०- 9718805056 ; ई-मेल-kumargouravindore@gmail.com

गतिविधियाँ

  • चर्चा में

    हरियाणा साहित्य-संगम में लघुकथा पर विचार -विमर्श( सुकेश साहनी और राम कुमार आत्रेय की भागीदारी ।)
    लघुकथा अनवरत-2017 का विश्व पुस्तक मेले में अयन प्रकाशन के स्टाल पर विमोचन।

  • सम्पर्क:-

    सुकेश साहनी

    185,उत्सव,महानगर पार्ट–2
    बरेली–243122 (उ.प्र.)

    sahnisukesh@gmail.com

    रामेश्वर काम्बोज ´हिमांशु´
    rdkamboj@gmail.com

    रचनाएँ भेजने के लिए पता-:-
    laghukatha89@gmail.com

    विशेष सूचना-:-
    पूर्व अनुमति के बिना लघुकथा डॉट कॉंम की सामग्री का उपयोग नहीं किया जा सकता ।

    -सम्पादक द्वय

Design by TemplateWorld and brought to you by SmashingMagazine