नवम्बर -2018

देशध्यान-पूजा     Posted: April 1, 2016

 माँ को भैया से मुझसे  ज्यादा लगाव था। भैया की शादी के बाद कभी भी भाभी ने माँ से ताल-मेल नहीं बिठाया। यह बात भैया भी जानते थे लेकिन भाभी के जिद्दी व कर्कश स्वभाव के कारण उनसे कभी कुछ नहीं कह पाते। भाभी अपने को नए ख्यालात की मानती थी। कुछ समय के अंतराल से घर में दो बच्चे भी आ गए।

बड़ा ढाई वर्ष का रोहन और छोटी रम्या अभी छह महीने की ही थी। माँ ने बहुत मेहनत की दोनों बच्चों को सँभालने में, पर भाभी के स्वभाव में कोई अंतर नहीं आया। रोज भाभी की जली-कटी, माँ को लेकर कहा-सुनी सुनने को टालने के लिए भैया ने पापा के सामने अपने अलग होने का फैसला रखा। पापा के बहुत समझाने पर माँ ने भी स्वीकृति दे दी। घर के आधे हिस्से में भैया-भाभी रहने लगे। पर भाभी इतने से भी न मानी।

उनका कहना था -बच्चों को गँवार नहीं बनाना, गँवारों में रखकर। उन्होंने आँगन के बीच दीवार चुनवाकर अपना हिस्सा अलग कर लिया। राहुल और रम्या के लिए माँ का मन टूटता, पर भाभी उनको इधर नहीं भेजती। शाम को दिया बाती के बाद माँ रोज माला का जाप करती थी। राहुल जब साथ था, उनके ध्यान में व्यवधान करने पहुँच जाता था; इसलिए माँ रोज छत पर जाकर ध्यान करती थी।अभी भी माँ छत पर जी माला जाप के लिए जाती थी। हमारे पूछने पर कहती -मुझे यही आदत हो गई है।

एक दिन माँ को बहुत देर हो गई छत पर, मेरा ध्यान गया तो मैं ऊपर देखने जाने लगी। पर मेरे क़दम यकायक रुक गए । मैंने देखा- माँ छत से झाँककर साँझ के धुँधलके में अपने पोते-पोती को निहार रही थी। मैं दबे पाँव वापस आ गई। उनके ध्यान-पूजा में व्यवधान का साहस नहीं था मुझमें।

-0-

गतिविधियाँ

  • चर्चा में

    हरियाणा साहित्य-संगम में लघुकथा पर विचार -विमर्श( सुकेश साहनी और राम कुमार आत्रेय की भागीदारी ।)
    लघुकथा अनवरत-2017 का विश्व पुस्तक मेले में अयन प्रकाशन के स्टाल पर विमोचन।

  • सम्पर्क:-

    सुकेश साहनी

    185,उत्सव,महानगर पार्ट–2
    बरेली–243122 (उ.प्र.)


    sahnisukesh@gmail.com

    रामेश्वर काम्बोज ´हिमांशु´
    chandanman2011@gmail.com

    रचनाएँ भेजने के लिए पता-:-

    laghukatha89@gmail.com

    विशेष सूचना-:-

    पूर्व अनुमति के बिना लघुकथा डॉट कॉंम की सामग्री का उपयोग नहीं किया जा सकता ।

    -सम्पादक द्वय

Design by TemplateWorld and brought to you by SmashingMagazine