नवम्बर -2018

देशसबसे अच्छी गेहूँ     Posted: April 1, 2016

कृषि विश्वविद्यालय के स्नातकों का एक दल क्रियात्मक प्रशिक्षण के लिए गाँव में आया हुआ था। खेतों की मेंड़ पर लम्बे बालों वाले चश्मे लगाए और बैल बॉटम पहने अपटुडेट युवकों को देखकर गाँव के कुछ लोग भी उनके आसपास एकत्र हो गए थे। प्रशिक्षण के हाथ में पाँच–छह किस्म की गेहूँ की बालिया थीं और वो बता रहे थे।

ये तीन सौ साावन किस्म का गेहूँ है। ये कल्याण हैं ये देसी…इसके गुण….अवगुण…..इतना बीज….इतना पानी,खाद…बोने का समय…काटने का समय आदि। नवयुवक बहुत ध्यान से देख–सुन रहे थे। भीड़ में फुसफुसाहट सी होने लगी थी,‘‘अरे, यो पढ़ावै सै, यो तो म्हारा नत्थू भी जानै  सै जो गूंठा भी न टेकणा जाणै।’’ तभी प्रशिक्षक ने प्रश्न उछाला, यह सब कुछ जान लेने के बाद…..कौन–सी गेहूँ को आप सबसे अच्छी गेहूँ  मानेंगे?

प्रशिक्षार्थियों में कानाफूसी शुरू हो गई। वो तय नहीं कर पा रहे थे। सभी में कुछ गुण थे तो कुछ कमियां भी थीं। काफी देर हो गई, तभी एक बूढ़ा खेतिहर मजदूर फटे चिथड़ों में लिपटा एकाएक आगे बढ़ा और चिल्लाता हुआ–सा बोला, ‘‘मैं काऊँ साब?’’ सभी निगाहें उसकी ओर उठ गई थीं। संयत होता हुआ वह बोला, ‘‘बोई (गेहूँ) सबतै बडि़या होवै जिस तई दो जून पेट भरजै।’’ और बिना किसी को ओर देखे बोझिल कदमों को उठाता वह एक ओर बढ़ गया।

-0-

गतिविधियाँ

  • चर्चा में

    हरियाणा साहित्य-संगम में लघुकथा पर विचार -विमर्श( सुकेश साहनी और राम कुमार आत्रेय की भागीदारी ।)
    लघुकथा अनवरत-2017 का विश्व पुस्तक मेले में अयन प्रकाशन के स्टाल पर विमोचन।

  • सम्पर्क:-

    सुकेश साहनी

    185,उत्सव,महानगर पार्ट–2
    बरेली–243122 (उ.प्र.)


    sahnisukesh@gmail.com

    रामेश्वर काम्बोज ´हिमांशु´
    chandanman2011@gmail.com

    रचनाएँ भेजने के लिए पता-:-

    laghukatha89@gmail.com

    विशेष सूचना-:-

    पूर्व अनुमति के बिना लघुकथा डॉट कॉंम की सामग्री का उपयोग नहीं किया जा सकता ।

    -सम्पादक द्वय

Design by TemplateWorld and brought to you by SmashingMagazine