नवम्बर -2018

देशस्कूल     Posted: April 1, 2016

 

सीरियल समाप्त होते ही पत्नी ने टी.वी. ऑॅफ किया और रात के भोजन के बर्तन समेटती हुई बोली, ‘‘आज दीपू ने खूब पानी पी रखा है। जल्दी सोने की जिद कर रहा था तो मैंने दूध पी पिला दिया था। कहीं ऐसा न हो कि यह रात को सोते बिस्तर पर पेशाब ही कर दे, आप इसे उठाकर एक बार पेशाब करवा लें।’’

मैंने दीपू को जगाने के लिए आवाजें दीं, ‘‘दीपू ओ दीपू… उठियो बेटा….उठ!’’ वह कुनमुनाने लगा था। मैनें उसे तनिक जोर से हिलाते हुए पुन: आवाज लगाई, ‘‘दीपू…उठ खड़ा हो!’’

यह सुनते ही वह तुरन्त आँखें मलता हुआ बिस्तर पर ही खड़ा हो गया और अर्धनिद्रावस्था में ही बोलना शुरू हो गया, ‘‘टू वन्जा टू…. टू टूजा फोर…।’’

मैं हैरान। पत्नी आवाक् । मैं उसे थामे खड़ा था। उसे बार–बार पुकार रहा था, ‘‘बेटे दीपू! तू घर पर है…स्कूल में नहीं बेटा…..।’’ पत्नी भी बराबर उसे जगाने का प्रयास करती रही ;किन्तु वह टू टैन्जा ट्वेन्टी पर ही आकर रुका…..।

-0-

गतिविधियाँ

  • चर्चा में

    हरियाणा साहित्य-संगम में लघुकथा पर विचार -विमर्श( सुकेश साहनी और राम कुमार आत्रेय की भागीदारी ।)
    लघुकथा अनवरत-2017 का विश्व पुस्तक मेले में अयन प्रकाशन के स्टाल पर विमोचन।

  • सम्पर्क:-

    सुकेश साहनी

    185,उत्सव,महानगर पार्ट–2
    बरेली–243122 (उ.प्र.)


    sahnisukesh@gmail.com

    रामेश्वर काम्बोज ´हिमांशु´
    chandanman2011@gmail.com

    रचनाएँ भेजने के लिए पता-:-

    laghukatha89@gmail.com

    विशेष सूचना-:-

    पूर्व अनुमति के बिना लघुकथा डॉट कॉंम की सामग्री का उपयोग नहीं किया जा सकता ।

    -सम्पादक द्वय

Design by TemplateWorld and brought to you by SmashingMagazine