अक्तूबर -2018

देशभविष्य     Posted: August 1, 2016

‘प्रोफेसर साहब,जल्दी ही मेडिकल-काउंसिल की इंस्पैक्शन होने वाली है। आपके विभाग में मरीजों की संख्या काफी कमहै।कालेजकाउंसिलके स्टैंडर्ड पर खरा नहीं उतरा ,तो मान्यता रद्द होजायेगी। हम सबका भविष्य खतरे में पड़ जाएगा।’ विभाग प्रमुख से कालेज के डीन ने कहा।

‘जी सर,लेकिन करें क्या? मेडिकल–कैंप भी लगवाये, पर खास लाभ नहीं हुआ।अब मरीजसमझदार हो गया है, स्टूडैंट्स से इलाज नहीं करवानाचाहता।’

‘तो इलाज डॉक्टर्स से करवाइए।’

‘डॉक्टर स्ट्रैंथ तो पहले ही कम है, वे भी इलाज में लगे रहेंगे तो स्टूडैंट्स को पढ़ाएगा कौन?’

‘फिर क्या हल है?’

‘कालेज मैनेजमैंट से कहिए, नए डाक्टर भर्ती करें। अच्छे डाक्टर होंगे तो ही मरीज आएँगे।

‘लेकिन इससे तो बजट बिगड़ जाएगा।’

‘बजट बढ़ाने के लिए स्टूडेंट्स पर नए चार्जिज लगाएँ। आखिर सब उन्ही के भविष्य के लिए ही तो कररहे हैं।’

‘आपकी बात मैनेजमैंट तक पहुँचा दूँगा। फिर भी मरीज बढ़ाने का कोई और उपाय?’

‘रोजाना पाँच-सात फर्जी मरीज दाखिल हुए दिखा देते हैं। इसी तरह कागजों में बैड भर देते हैं। काउंसिल को सत्तर परसेंट बैड-आकुपेंसी ही तो चाहिए।’

‘इंस्पैक्शन के वक्त क्या करेंगे?’

‘तब मज़दूरों, भिखारियों, रिक्शावालों को दिहाड़ी पर लाकर लेटा देंगे।’ प्रोफैसर ने मुस्कराते हुए कहा।

-0-बी-1/248, यमुना विहार, दिल्ली-110053

गतिविधियाँ

  • चर्चा में

    हरियाणा साहित्य-संगम में लघुकथा पर विचार -विमर्श( सुकेश साहनी और राम कुमार आत्रेय की भागीदारी ।)
    लघुकथा अनवरत-2017 का विश्व पुस्तक मेले में अयन प्रकाशन के स्टाल पर विमोचन।

  • सम्पर्क:-

    सुकेश साहनी

    185,उत्सव,महानगर पार्ट–2
    बरेली–243122 (उ.प्र.)


    sahnisukesh@gmail.com

    रामेश्वर काम्बोज ´हिमांशु´
    chandanman2011@gmail.com

    रचनाएँ भेजने के लिए पता-:-

    laghukatha89@gmail.com

    विशेष सूचना-:-

    पूर्व अनुमति के बिना लघुकथा डॉट कॉंम की सामग्री का उपयोग नहीं किया जा सकता ।

    -सम्पादक द्वय

Design by TemplateWorld and brought to you by SmashingMagazine