अक्तूबर -2018

देशराजनीति     Posted: March 1, 2018

एक साल में इतना परिवर्तन. जहां चमचमाते बरतन, शानदार फर्नीचर और जानदार रहनसहन वाले मुलाजिम काम करते थे, वहां इतनी गंदा रहनसहन, गंदा माहौल और गंदे फर्नीचर देख कर वैभव चकित था, ” अरे कमल ! ये क्या हुआ ?”

” कुछ नहीं यार! धंधा ​पीट गया।”

” मगर, कैसे? तुम तो बहुत मेहनती, सूझबूझ और ईमानदारी से धंधा करने वाले आदमी थे. फिर धंधा कैसे पीट गया ?”

” आजकल मेहनत से कुछ नहीं होता है. ग्राहक भी तो आना चाहिए.” कमल ने गंदी टेबल को साफ करते हुए वैभव को बैठने का इशारा किया।

” तू तो हर समय अपना फर्निचर बदल दिया करता था? और ये ?”

“ हाँ यार ! उस समय धंधा अच्छा चलता था. मगर,…”

” मगर, अब क्या हो गया।? लोगों को खाना खाने को रोज चाहिए. यात्री रोज आते हैं. फिर तेरी होटल क्यों नहीं चल रही है ?”

” सरकार ने रोजगार लूट लिया?” कमल ने कहा, ” अब भूखों मरने की नौबत आ गई।”

” ऐसा क्यों कहता है यार? सरकार सभी को रोजगार देती है. लूटती नहीं है. ” वैभव ने कहा तो कमल ने एक चमचमाती वेलअपटूडेट गाड़ी की भीड़ की ओर इशारा कर दिया, ” अब वहाँ 5 रूपए में खाना दिया जाता है ,तो लोग यहां 50 रूपए की थाली में खाना खाने क्यों आएँगे.” कहते हुए कमल ने वैभव के सामने वही 5  रुपये की खाने की थाली आगे कर दी, ” ले तू भी खाना खा.”

-0-

ओमप्रकाश क्षत्रिय ‘प्रकाश’,पोस्ट ऑफिस के पास,रतनगढ़-४५८२२६ (नीमच) मप्र

opkshatriya@gmail.com

9424079675

गतिविधियाँ

  • चर्चा में

    हरियाणा साहित्य-संगम में लघुकथा पर विचार -विमर्श( सुकेश साहनी और राम कुमार आत्रेय की भागीदारी ।)
    लघुकथा अनवरत-2017 का विश्व पुस्तक मेले में अयन प्रकाशन के स्टाल पर विमोचन।

  • सम्पर्क:-

    सुकेश साहनी

    185,उत्सव,महानगर पार्ट–2
    बरेली–243122 (उ.प्र.)


    sahnisukesh@gmail.com

    रामेश्वर काम्बोज ´हिमांशु´
    chandanman2011@gmail.com

    रचनाएँ भेजने के लिए पता-:-

    laghukatha89@gmail.com

    विशेष सूचना-:-

    पूर्व अनुमति के बिना लघुकथा डॉट कॉंम की सामग्री का उपयोग नहीं किया जा सकता ।

    -सम्पादक द्वय

Design by TemplateWorld and brought to you by SmashingMagazine