अक्तूबर -2018

देशडॉगी पैक-शशि गोयल     Posted: July 1, 2018

‘उफ सब मजा किरकिरा कर दिया’ स्वयंप्रभाजी ने नान को  प्लेट  से सरका कर वापस डलिया में रख दिया ।‘दूसरी बार कहा है ,जरा करारी सेक कर लाओ पर यह बैरा भी न कच्ची पक्की रोटी लेकर आ जाता है । ’

‘छोड़ो दूसरी मँगाता हॅूं’।’ श्रीमंतजी बोले ,

‘हम भी करारी ही लेंगे, ’ दोनों बच्चों ने भी प्लेट की नान छोड़ दी ।

‘अरे ! ये पास्ता कौन खायेगा ?’ स्वयंप्रभाजी ने दोनों बच्चों की ओर देखा ।

‘नो मामा नो दाल मखनी मँगाओ ’

‘उफ पहले ये तो खालो ’श्रीमंतजी ने कहा ।

‘पापा प्लीज बटरनॉन खाना है,’ बच्चों के चेहरे लटक गए थे ।

‘बैरा बटरनान और एक दाल मखनी ले आओ । देखो पतली और  अच्छी सिकी लाना,’ श्रीमंतजी  को बच्चों पर लाड़ आ गया । गरम बटरनॉन और दाल मखनी खाकर बच्चे टैरेस पर हो रहे कठपुतली का शो देखने चले गये।’ श्रीमंतजी ने  बैयरे से बिल लाने को कहा । स्वयंप्रभाजी ने बचा हुआ खाना देखा एक क्षण ठिठकी और बोली ,‘डॉगी पैक बनादो ।’

श्रीमंत जी ने पत्नी की ओर प्रश्नवाचक दृष्टि से देखा। इशारे से स्वयंप्रभाजी ने रुकने का इशारा किया । वेटर के जाने के बाद श्रीमंतजी बोले,‘ हमारे यहॉं कुत्ता कहॉं है ?’

‘अरे ऐसे ही कहा जाता है । घर जाकर बाबूजी के लिए खाना नहीं बनाना पड़ेगा ।’

-0-

गतिविधियाँ

  • चर्चा में

    हरियाणा साहित्य-संगम में लघुकथा पर विचार -विमर्श( सुकेश साहनी और राम कुमार आत्रेय की भागीदारी ।)
    लघुकथा अनवरत-2017 का विश्व पुस्तक मेले में अयन प्रकाशन के स्टाल पर विमोचन।

  • सम्पर्क:-

    सुकेश साहनी

    185,उत्सव,महानगर पार्ट–2
    बरेली–243122 (उ.प्र.)


    sahnisukesh@gmail.com

    रामेश्वर काम्बोज ´हिमांशु´
    chandanman2011@gmail.com

    रचनाएँ भेजने के लिए पता-:-

    laghukatha89@gmail.com

    विशेष सूचना-:-

    पूर्व अनुमति के बिना लघुकथा डॉट कॉंम की सामग्री का उपयोग नहीं किया जा सकता ।

    -सम्पादक द्वय

Design by TemplateWorld and brought to you by SmashingMagazine