नवम्बर -2018

देशान्तरकिरिच अलेग्जांद्रु साहिया     Posted: November 1, 2018

जादूगर  अपना खेल शुरू करने वाला था। लोग आते जा रहे थे। गेरला ने जनता की उत्सुकता को देखते हुए उसी वक्त खेल शुरूकर दिया।
किसान बहुत खुश थे। वे तालियाँ बजाते और ऊँची आवाज में कहते, ‘‘गेरला।”
जादूगर का उत्साह भी पूरे जोर पर था। जब उसने अपनी तीन तलवारों को सूर्य के प्रकाश में चमकाया और सहसा तलवारें जादूगर के गले में गायब हो गई, तो हर्ष की ध्वनि मानो आकाश चूमने लगी।
तभी अचानक एक कठोर आवाज भीड़ पर छा गई, ‘‘झूठा,मक्कार! यह हमें धोखा दे रहा है। इसकी तलवार असली नहीं है। इसे मेरी किरिच निगलने को दो, तब देखें।”
“हाँ,यह ठीक है,’’ सैकड़ों किसान विद्रोह के स्वर में चिल्लाए।
“मैं कहता हूँ मिहाइल गेरला, यदि तुम अपने करिश्में के बारे में विश्वास कराना चाहते हो, तो तुम्हें किरिच निगलनी होगी ।”
“हाँ,, हाँ,, लोग चिल्लाए। गेरला धोखेबाज है,खूसट बूढ़ा,मक्कार!’’
जादूगर ने देखा, उसका अस्तित्व खतरे में है, उसकी बीसियों वर्षो की ख्याति और प्रतिष्ठा सदा के लिए धूल में मिल रही है। उसने अपनी पेटी में उन विश्वविख्यात तलवारों को रख लिया और सार्जेट की किरिच को कंपित हाथों से ले लिया।
सार्जेट व्यंग्य से मुस्कराया। भीड़ साँस रोके सब देखती रही। जादूगर ने किरिच को अपनी दो उंगलियों में ले लिया और उसने उसे गले में डालने की कोशिश की। वह आधा ही निगल पाया था कि तेजी से उसने उसे खींच कर बाहर निकाल लिया। फिर उसे अपनी आस्तीन पर पोंछा और पोंछकर पूरी किरिच उसने गले के अंदर उतार ली। केवल मूठ बाहर रह गई थी, जो उसके ओठों के पास रुकी थी। सहसा एक घबराए पक्षी की तरह वह काँपा,जैसे उड़ने की कोशिश कर रहा हो। प्रशंसा की आवाजें फूट पडीं। किसान पागलों की तरह चिल्ला उठे, ‘‘गेरला शाबाश! गेरला जिंदाबाद! शाबाश!’’
गेरला ने काँपते हाथों से किरिच की मूठ को पकड़ा और जैसे ही उसको  बाहर खींचा, उसके गले से खून की धार फूट पड़ी।
गेरला कुछ बोलना चाहता था। वह हकलाया। फिर सार्जेट की किरिच के पास, कुर्सी से लुढ़क कर गिर पड़ा।

[अनुवाद:कमला जोशी]

गतिविधियाँ

  • चर्चा में

    हरियाणा साहित्य-संगम में लघुकथा पर विचार -विमर्श( सुकेश साहनी और राम कुमार आत्रेय की भागीदारी ।)
    लघुकथा अनवरत-2017 का विश्व पुस्तक मेले में अयन प्रकाशन के स्टाल पर विमोचन।

  • सम्पर्क:-

    सुकेश साहनी

    185,उत्सव,महानगर पार्ट–2
    बरेली–243122 (उ.प्र.)


    sahnisukesh@gmail.com

    रामेश्वर काम्बोज ´हिमांशु´
    chandanman2011@gmail.com

    रचनाएँ भेजने के लिए पता-:-

    laghukatha89@gmail.com

    विशेष सूचना-:-

    पूर्व अनुमति के बिना लघुकथा डॉट कॉंम की सामग्री का उपयोग नहीं किया जा सकता ।

    -सम्पादक द्वय

Design by TemplateWorld and brought to you by SmashingMagazine