अक्तुबर-2017

देशमासूम सवाल     Posted: May 1, 2015

जॉनी कहाँ मर गया। हरामखोरी की आदत लग गई हैं सबको यहां।
आया मालिक।
कहां मर गया था। काम कौन तेरा बाप करेगा।
चल बे जाके टेबल नं 3 पर आॅर्डर लेके आ।
उस छोटे से बच्चे को देखकर मन में कितने सवाल उठ रहे थे। कितनी फुर्तीला था । सबसे आॅर्डर ले रहा था ओर खाना भी फटाफट दे रहा था। ऐसे लग रहा था मानो कोई चाबी भर दी हो। जाने क्या असर तो मालिक की कर्कश–सी फटकार में। सोच रही थी कि कब मेरी टेबल पर आकर आॅर्डर लेगा।
मैडम जी…क्या लेंगी आप?
क्या नाम है तुम्हारा?
जॉनी बोलते है अपने को यहाँ सब।
जॉनी कितने साल के हो?
9 साल का है मैडम जी।
तुम स्कूल क्यों नहीं जाते? कितने सारे सरकारी स्कूल है , जहाँ फीस भी नहीं लगती ओर खाना भी मिलता हैं। किताबें, स्कूल के कपडे़ सब वहीं से मिलता हैं। फिर क्यों यहाँ काम करते हो। पढ़ाई करोगे तो ये काम नहीं करना पड़ेगा। फिर तुम भी सबको आॅर्डर दोगे।
मैडम जी, स्कूल में किताबें, खाना सब मिलता हैं पर पैसा तो नहीं मिलता ना। हम स्कूल जाएगा तो कमाएगा कौन। कमाएगा नही ,तो मां का ध्यान कौन रखेगा उसका दवा कौन ला के देगा।
मैडम जी, अब जल्दी से आर्डर दीजिए, नहीं तो फिर से गाली सुनने को मिलेगा।
इस मासूम जवाब ने कई सारें सवाल खड़े दिए।
-0-
नीतू शर्मा , 1916, खेजारो का रास्ता , चाँदपोल बाज़ार , जयपुर-302001
neet.viya@gmail.com

-0-

गतिविधियाँ

  • चर्चा में

    हरियाणा साहित्य-संगम में लघुकथा पर विचार -विमर्श( सुकेश साहनी और राम कुमार आत्रेय की भागीदारी ।)
    लघुकथा अनवरत-2017 का विश्व पुस्तक मेले में अयन प्रकाशन के स्टाल पर विमोचन।

  • सम्पर्क:-

    सुकेश साहनी

    185,उत्सव,महानगर पार्ट–2
    बरेली–243122 (उ.प्र.)

    sahnisukesh@gmail.com

    रामेश्वर काम्बोज ´हिमांशु´
    rdkamboj@gmail.com

    रचनाएँ भेजने के लिए पता-:-
    laghukatha89@gmail.com

    विशेष सूचना-:-
    पूर्व अनुमति के बिना लघुकथा डॉट कॉंम की सामग्री का उपयोग नहीं किया जा सकता ।

    -सम्पादक द्वय

Design by TemplateWorld and brought to you by SmashingMagazine