दिसम्बर -2018

देशान्तरराजदंड     Posted: February 1, 2016

(अनुवाद : सुकेश साहनी)

राजा ने अपनी पत्नी से कहा, ‘‘वास्तव में तुम रानी बनने लायक नहीं हो, तुम इस कदर अशिष्ट और भद्दी हो कि तुम्हें अपनी रानी कहते हुए शर्म आती है।’’
पत्नी ने कहा, ‘‘तुम राजा बने फिरते हो, लेकिन तुम बातें बनाने वाले घटिया आदमी के सिवा कुछ नहीं हो।’’
यह सुनकर राजा को गुस्सा आ गया और उसने अपना सोने का राजदंड रानी के माथे पर दे मारा।
उसी क्षण न्यायमंत्री ने वहाँ प्रवेश किया और बोला, ‘‘बहुत खूब, महाराज! इस राजदंड को देश के सबसे बड़े कारीगर ने बनाया था। ये कटु सत्य है कि एक दिन रानी और आपको भी लोग भूल जाएँगे, पर ये राजदंड सौंन्दर्य के प्रतीक के रूप में पीढ़ी दर पीढ़ी सम्हाल कर रखा जाएगा। महाराज, अब तो यह राजदंड और भी महत्त्वपूर्ण एवं राज की अमूल्य निधि कहलाएगा; क्योंकि आपने रानी के मस्तक के खून से इसका तिलक जो कर दिया है।
-0-

गतिविधियाँ

  • चर्चा में

    हरियाणा साहित्य-संगम में लघुकथा पर विचार -विमर्श( सुकेश साहनी और राम कुमार आत्रेय की भागीदारी ।)
    लघुकथा अनवरत-2017 का विश्व पुस्तक मेले में अयन प्रकाशन के स्टाल पर विमोचन।

  • सम्पर्क:-

    सुकेश साहनी

    185,उत्सव,महानगर पार्ट–2
    बरेली–243122 (उ.प्र.)


    sahnisukesh@gmail.com

    रामेश्वर काम्बोज ´हिमांशु´
    chandanman2011@gmail.com

    रचनाएँ भेजने के लिए पता-:-

    laghukatha89@gmail.com

    विशेष सूचना-:-

    पूर्व अनुमति के बिना लघुकथा डॉट कॉंम की सामग्री का उपयोग नहीं किया जा सकता ।

    -सम्पादक द्वय

Design by TemplateWorld and brought to you by SmashingMagazine