दिसम्बर -2018

देशये जीन्स हैं     Posted: January 1, 2018

एक गाँव में लड़कियों के जीन्स पहनावे के खिलाफ…..

पंचायत बैठने में अभी तीन घण्टे शेष थे, सरपंच की पोती,, ढीला-ढीला-सा जीन्स पहनकर, अपने दादाजी को पानी पिलाने आई।

‘‘बेटे! ये आज तूने क्या पहन रखा है?’’

इससे पहले कि पोती, अपने दादाजी को बताती, ढीला-ढीला जीन्स पहने,उसकी सहेलियाँ, अपनी योजनानुसार, सरपंच के सामने यकायक आकर एक स्वर में बोलीं-‘‘दादाजी, ये जीन्स हैं!’’

‘‘क्याऽऽ….ये….ये जीन्स हैं, तो वो, फिर वो क्या है, जो हमारी बेटियाँ पहने, नंगी-सी डोलती-फिरती हैं?’’

‘‘दादाजी! वे भी जीन्स हैं; ये भी जीन्स है!’’

‘‘अरे! ते फिर नहीं!….नहीं! ऐसे पहनावे का नहीं! हमारा गाँव उस पहनावे के खिलाफ कैसे जा सकता है, जो नारी  शरीर की गरिमा अपनी तरह से बनाए रखने में सक्षम है।’’

………

सरपंच, लड़कियों को साथ लेकर, अपने साथियों को समझाने, पंचायत भवन की ओर अपने कदम, छड़ी टेकते-टेकते बढ़ा रहा था।

-0-

गतिविधियाँ

  • चर्चा में

    हरियाणा साहित्य-संगम में लघुकथा पर विचार -विमर्श( सुकेश साहनी और राम कुमार आत्रेय की भागीदारी ।)
    लघुकथा अनवरत-2017 का विश्व पुस्तक मेले में अयन प्रकाशन के स्टाल पर विमोचन।

  • सम्पर्क:-

    सुकेश साहनी

    185,उत्सव,महानगर पार्ट–2
    बरेली–243122 (उ.प्र.)


    sahnisukesh@gmail.com

    रामेश्वर काम्बोज ´हिमांशु´
    chandanman2011@gmail.com

    रचनाएँ भेजने के लिए पता-:-

    laghukatha89@gmail.com

    विशेष सूचना-:-

    पूर्व अनुमति के बिना लघुकथा डॉट कॉंम की सामग्री का उपयोग नहीं किया जा सकता ।

    -सम्पादक द्वय

Design by TemplateWorld and brought to you by SmashingMagazine