दिसम्बर -2018

देशान्तरकरामात     Posted: February 1, 2018

लूटा हुआ माल प्राप्त करने के लिए पुलिस ने छापे मारने शुरू किए।

            लोग डर के मारे लूटा हुआ माल रात के अँधेरे में बाहर फेंकने लगे। कुछ ऐसे भी थे कि जिन्होंने अपना माल भी मौका पाकर अपने से अलग कर दिया ताकि कानून के पंजे से बचे रहें।

            एक आदमी के सामने एक समस्या उठ खड़ी हुई-उसके पास चीनी की दो बोरियाँ थीं ,जो उसने पंसारी की दुकान से लूटी थीं। एक तो ज्यों-ज्यों रात के अँधेरे में पास वाले कुएँ में फेंक आया। लेकिन जब दूसरी उठाकर उसमें डालने लगा तो खुद भी साथ चला गया।

शोर सुनकर लोग इकट्ठे हो गए। कुएँ में रस्सियाँ डाली गईं। दो जवान नीचे उतरे और उस आदमी को बाहर निकाल लिया, लेकिन कुछ घंटों के बाद वह मर गया।

दूसरे दिन जब इस्तेमाल के लिए लोगों ने कुएँ से पानी निकाला तो वह मीठा था

उसी रात उस आदमी की कब्र पर दिए जल रहे थे।

(सियाह हाशिए: सम्पादक-नरेन्द्र मोहन)

गतिविधियाँ

  • चर्चा में

    हरियाणा साहित्य-संगम में लघुकथा पर विचार -विमर्श( सुकेश साहनी और राम कुमार आत्रेय की भागीदारी ।)
    लघुकथा अनवरत-2017 का विश्व पुस्तक मेले में अयन प्रकाशन के स्टाल पर विमोचन।

  • सम्पर्क:-

    सुकेश साहनी

    185,उत्सव,महानगर पार्ट–2
    बरेली–243122 (उ.प्र.)


    sahnisukesh@gmail.com

    रामेश्वर काम्बोज ´हिमांशु´
    chandanman2011@gmail.com

    रचनाएँ भेजने के लिए पता-:-

    laghukatha89@gmail.com

    विशेष सूचना-:-

    पूर्व अनुमति के बिना लघुकथा डॉट कॉंम की सामग्री का उपयोग नहीं किया जा सकता ।

    -सम्पादक द्वय

Design by TemplateWorld and brought to you by SmashingMagazine