दिसम्बर -2018

देशान्तरनिगरानी में     Posted: March 1, 2018

        ‘अ’ अपने दोस्त ‘ब’ को अपना हममजहब जाहिर करके, उसे महफूज मुकाम पर पहुँचाने के लिए मिलटरी के एक दस्ते के साथ रवाना हुआ। रास्ते में ‘ब’ ने, जिसका मजहब मसलहतन बदल दिया गया था, मिलटरी वालों ने पूछा,‘क्यों जनाब, आसपास कोई वारदात तो नहीं हुई?’’

        जवाब मिला, ‘‘कोई खास नहीं। फलाँ मुहल्ले में अलबत्ता एक कुत्ता मारा गया।’’

        सहमकर ‘ब’ ने पूछा, ‘‘कोई और खबर?’’

        जवाब मिला, ‘‘खास नहीं, नहर में तीन कुतियों की लाशें मिलीं।’’

        ‘अ’ ने ‘ब’ की खातिर मिलटरी वालों से कहा, ‘‘मिलटरी कुछ इन्तजाम नहीं करती।

        जवाब मिला, ‘‘क्यों नहीं? सब काम उसकी निगरानी में होता है।’’

 -0-

गतिविधियाँ

  • चर्चा में

    हरियाणा साहित्य-संगम में लघुकथा पर विचार -विमर्श( सुकेश साहनी और राम कुमार आत्रेय की भागीदारी ।)
    लघुकथा अनवरत-2017 का विश्व पुस्तक मेले में अयन प्रकाशन के स्टाल पर विमोचन।

  • सम्पर्क:-

    सुकेश साहनी

    185,उत्सव,महानगर पार्ट–2
    बरेली–243122 (उ.प्र.)


    sahnisukesh@gmail.com

    रामेश्वर काम्बोज ´हिमांशु´
    chandanman2011@gmail.com

    रचनाएँ भेजने के लिए पता-:-

    laghukatha89@gmail.com

    विशेष सूचना-:-

    पूर्व अनुमति के बिना लघुकथा डॉट कॉंम की सामग्री का उपयोग नहीं किया जा सकता ।

    -सम्पादक द्वय

Design by TemplateWorld and brought to you by SmashingMagazine