दिसम्बर -2018

देशएक शाम ऐसी भी     Posted: July 1, 2018

“अम्मा, बाबूजी का सन्देशा आया है। हमें शर्मा बाबू की दुकान पर बुलाया है।” तुलसी की बात सुनते ही अम्मा चौंक कर खड़ी हो गयीं।

“क्या हुआ, कौन सन्देशा लाया? हे भगवान क्या कुछ और दिन दिखाना बाकी रह गया!”

“नितिन से बुलवा भेजा है।” तुलसी अपने दुपट्टे की चुन्नटें सम्हालने लगी और अम्मा टूटी चप्पलों को पैर में डालकर देख रहीं थीं। जब से शहर आए हैं, तब से कहीं बाहर जाना ही नहीं होता। मुनीम की छोटी सी नौकरी करने वाले नेतराम जी गाँव में विवाद के चलते अपनी दो बेटियों तुलसी, राधा और पत्नी सहित शहर के पाश इलाके के एक कमरे में किराए पर रहते हैं। परिवार का पेट बमुश्किल भरने के बाद कमरे का किराया शहर का खर्च उनकी कमर तोड़ रहे थे ,उस पर दो जवान बेटियाँ, पूरे इलाके के आँख की किरकिरी बनी हुई हैं। कमरे की एक-एक ईंट उनके दर्द की गवाह थी। नेतराम जी जहाँ भी शादी के लिए ,जाते दहेज का दानव उन्हें उल्टे पाँव लौटने को मजबूर करता।

दिन भर माँ-बेटी बाट जोहती कि कुछ अच्छी खबर आएगी ,पर शाम मनहूसियत का पैगाम लाती। कभी-कभी तो जी इतना भर आता कि कुछ खाकर सो जाएँ और रात भर टकटकी लगाकर सीलन भरी छत न ताकनी पड़े। 

आज भी ऐसी ही एक और शाम थी। अम्मा तुलसी को लेकर बाहर निकल आईं। दोनों तेज कदमों से बढ़े जा रहे थे पर अनिष्ट की आशंका इस कदर हावी थी कि रास्ता लम्बा हो गया। अम्मा ने दूर से ही देखा बाबूजी दुकान के एक छोर से दूसरे छोर तक तेज कदमों से चल रहे थे। तुलसी ने अम्मा का हाथ कसकर पकड़ लिया। 

“माखन ये है हमारी बिटिया तुलसी, एम.. पास है। बड़ी होनहार है, इसको नौकरी वाला फॉर्म भरा दो और आज से ये कंप्यूटर भी सीखेगी।” बाबू जी की बात सुनते ही तुलसी की आँखे नम हो गईं; क्योंकि आज उसके जीवन की वो शाम थी ,जिसका एक अदद सवेरा भी है।

-0-

गतिविधियाँ

  • चर्चा में

    हरियाणा साहित्य-संगम में लघुकथा पर विचार -विमर्श( सुकेश साहनी और राम कुमार आत्रेय की भागीदारी ।)
    लघुकथा अनवरत-2017 का विश्व पुस्तक मेले में अयन प्रकाशन के स्टाल पर विमोचन।

  • सम्पर्क:-

    सुकेश साहनी

    185,उत्सव,महानगर पार्ट–2
    बरेली–243122 (उ.प्र.)


    sahnisukesh@gmail.com

    रामेश्वर काम्बोज ´हिमांशु´
    chandanman2011@gmail.com

    रचनाएँ भेजने के लिए पता-:-

    laghukatha89@gmail.com

    विशेष सूचना-:-

    पूर्व अनुमति के बिना लघुकथा डॉट कॉंम की सामग्री का उपयोग नहीं किया जा सकता ।

    -सम्पादक द्वय

Design by TemplateWorld and brought to you by SmashingMagazine