दिसम्बर -2018

देशगर्मियों में मायका     Posted: August 1, 2018

सुनो जी, मैं मायके चली जाऊँ? गर्मी की छुट्टियां शुरु हो गईं हैं।।। पापा की तबियत भी कुछ खराब है और उनकी याद भी बहुत आ रही है मिल भी आऊँगी।’
सरिता ने अपने पति रंजन से कहा।
‘वहाँ गाँव में जाकर क्या करोगी?न वहाँ कूलर न ही ए सी। गर्मी से निराली और मुन्ना बीमार हो जाएँगे।’
क्या करोगी?
मेरा घर है वहाँ।
मुझे जन्म देने वाले माता पिता रहते हैं वहां।।और आप मुझे पूछते हो क्या करोगी?
वैसे ही निराली की पढ़ाई लिखाई की वजह से केवल गर्मी की छुट्टियों में ही मिलना हो पाता है उनसे मेरा।
रही बात ए सी की वो तो आपके गाँव में भी नहीं है फिर भी हम वहाँ जाते ही हैं न?
‘नहीं,फालतू की बातें मत करो। जाना है तो अकेली ही जाओ।बच्चों को छोड़ जाओ यहाँ।’
इनसे भी तो इनके नाना नानी को मिलना है न?
साल में एक बार तो मिलने दो हम सबको एक साथ।
रही बात गर्मी की तो हमें वहाँ गर्मी नहीं लगती।
मेरी माँ के आँचल की प्यार ही फुहार से गर्मी कोसों दूर रहती है।
गलती से लगे सरिता के फ़ोन  पर माँ ने सारी बातें सुन लीं।अपने गले से सोने की चेंन उतार कर अपने पति को देते हुए कहा’सुनिए एक कूलर लगवा लो लाड़ो  और हमारे बच्चे जो आ रहे हैं ।’
-0-

 

गतिविधियाँ

  • चर्चा में

    हरियाणा साहित्य-संगम में लघुकथा पर विचार -विमर्श( सुकेश साहनी और राम कुमार आत्रेय की भागीदारी ।)
    लघुकथा अनवरत-2017 का विश्व पुस्तक मेले में अयन प्रकाशन के स्टाल पर विमोचन।

  • सम्पर्क:-

    सुकेश साहनी

    185,उत्सव,महानगर पार्ट–2
    बरेली–243122 (उ.प्र.)


    sahnisukesh@gmail.com

    रामेश्वर काम्बोज ´हिमांशु´
    chandanman2011@gmail.com

    रचनाएँ भेजने के लिए पता-:-

    laghukatha89@gmail.com

    विशेष सूचना-:-

    पूर्व अनुमति के बिना लघुकथा डॉट कॉंम की सामग्री का उपयोग नहीं किया जा सकता ।

    -सम्पादक द्वय

Design by TemplateWorld and brought to you by SmashingMagazine