दिसम्बर -2018

देशमज़ा     Posted: December 1, 2018

 

            बेटे को गली में पतंग लूटते देख, साहब नाराज हुए। डाँटते हुए बाजार ले गए। पतंग-मांझा दिलाया और नसीहत दी कि ‘अब कभी पतंग लूटने के लिए नहीं भागेगा।”

            बेटे ने सिर हिलाया।

            कुछ दिनो बाद साहब ने ‘मोटा हाथ मारा। ब्रीफकेस में डाल घर लौटे। तभी देखा, बेटा फिर गली में पतंग लूट रहा था। साहब ने क्रोधित होते हुए कहा, ‘‘कमबख्त। उस दिन ‘पतंग-मांझा दिलवाया था ना। अब क्यों पतंग लूटने के लिए भागता है?’’

            ‘‘पापा, जो मजा लूटने में है, वो खरीद कर उड़ाने में नहीं है।”बेटे ने उत्तर दिया।

            साहब कुछ न बोले। ब्रीफकेस को कस कर पकड़ा और घर के अन्दर हो लिए।

-0-

गतिविधियाँ

  • चर्चा में

    हरियाणा साहित्य-संगम में लघुकथा पर विचार -विमर्श( सुकेश साहनी और राम कुमार आत्रेय की भागीदारी ।)
    लघुकथा अनवरत-2017 का विश्व पुस्तक मेले में अयन प्रकाशन के स्टाल पर विमोचन।

  • सम्पर्क:-

    सुकेश साहनी

    185,उत्सव,महानगर पार्ट–2
    बरेली–243122 (उ.प्र.)


    sahnisukesh@gmail.com

    रामेश्वर काम्बोज ´हिमांशु´
    chandanman2011@gmail.com

    रचनाएँ भेजने के लिए पता-:-

    laghukatha89@gmail.com

    विशेष सूचना-:-

    पूर्व अनुमति के बिना लघुकथा डॉट कॉंम की सामग्री का उपयोग नहीं किया जा सकता ।

    -सम्पादक द्वय

Design by TemplateWorld and brought to you by SmashingMagazine